साइकिल का आविष्कार किसने किया था और कब किया !

 क्या आप जानते हैं  साइकिल का आविष्कार किसने किया ?नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारे इस नए आर्टिकल में , आज हम आपको बताने वाले है की साइकिल का आविष्कार कब और किसने किया ?. 

तकनीक कि दुनिया मे जबसे बिजली तथा मोटर का आविष्कार हुआ है तबसे साइकिल जैसे उपकरणों का उपयोग बहुत काम हो गया है । लोगों द्वारा यह मानसिकता बन गई है कि अगर 5 मिनट मे कहीं गाड़ी से पहुँचा जा सकता है तो कौन आधे आधे घंटे तक साइकिल के पैडिल मारता रहेगा !

साइकिल का आविष्कार किसने किया था और कब किया !
 साइकिल का आविष्कार किसने किया था और कब किया !


    लेकिन ऐसे मे भी कुछ ऐसे साथी है जो कि साइकिल का उपयोग स्वास्थ्य रहने के लिए करते हैं एक्सरसाइज़ करने के लिए करते है । और जब उनके मन मे ख्याल आता है कि आखिर  साइकिल का आविष्कार किसने किया होगा तो वे नेट मेँ खोजने लगते है । उन्ही के लिए आज का यह आर्टिकल है । 

    साइकिल का अविष्कार किसने किया ?

    आपने सोचा होगा कि साइकिल जैसा साधारण दुपहिया वाहन कुछ ही दिनों में किसी के द्वारा आसानी से बन गया होगा, लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि आज हम जिस साइकिल को देखते हैं, वह 100 साल तक उसमें हुए कई बदलावों का परिणाम है।

    लेकिन क्या आप जानते है कि cycle ka avishkar kisne kiya? तो बता दें, साइकिल के आविष्कार का श्रेय जर्मन वन अधिकारी कार्ल वॉन ड्रैस को दिया जाता है। दुनिया की पहली साइकिल लगभग 200 साल पहले 1817 में वान द्रास ने बनाई थी।

    कार्ल वॉन ड्रैस यूरोप में बाइडर्मियर काल के एक प्रसिद्ध आविष्कारक थे। साइकिल के अलावा, उन्होंने 1821 में एक कीबोर्ड के साथ पहला कीबोर्ड टाइपराइटर, 1827 में एक 16-अक्षर वाली स्टेनोग्राफ मशीन, 1812 में कागज पर पियानो संगीत रिकॉर्ड करने के लिए एक उपकरण, दुनिया का पहला मीट ग्राइंडर का आविष्कार किया।

    साइकिल का अविष्कार कब और कैसे हुआ ?

    कार्ल वॉन ड्रैस ने इस मानवयुक्त दोपहिया वाहन को 1815 में हुई एक बड़ी समस्या के समाधान के रूप में बनाया था।

    दरअसल, 1815 में इंडोनेशिया में माउंट तंबोरा ज्वालामुखी के बड़े पैमाने पर फटने से इसके राख के बादल पूरी दुनिया में फैल गए और वैश्विक तापमान में भारी गिरावट आई।

    तापमान में गिरावट के कारण उत्तरी गोलार्ध के देशों की फसलें पूरी तरह से बर्बाद हो गईं। लाखों घोड़े और पालतू मवेशी भूख से मर गए। उस समय केवल जानवरों का उपयोग माल के परिवहन और परिवहन के साधन के रूप में किया जाता था। तो जब ये जानवर मर गए, तो कार्ल वॉन ड्रैस ने साइकिल का आविष्कार किया।

    शुरुआती साइकिल पूरी तरह से लकड़ी की बनी थी। उसका वजन 23 किलो था। उसमें न तो चप्पू था और न ही गियर। उसे चलाने वाला उस पर बैठ जाता था और अपने पैरों से चलने के लिए उसे विपरीत दिशा में धकेलता था।

    हाथों को सहारा देने के लिए एक दफ्ती भी लगी थी। 12 जून, 1817 को, कार्ल वॉन ड्रैस ने पहली बार इसे दो जर्मन शहरों  मैनहेम और रिनाउ के बीच चलाकर जनता के सामने प्रदर्शित किया। उनसे 7 किमी. इस दूरी को तय करने में एक घंटे से अधिक का समय लगा।

    उन्होंने जर्मन में अपनी नई मशीन का नाम  ‘ल्युफ़मशीन’ (Laufmaschine) रखा; जिसका अर्थ है - एक चलने वाली मशीन, लेकिन बाद में इसे यूरोप के अन्य देशों में लोकप्रिय नामों जैसे वेलोसिपेड, ड्रेसिएन, हॉबी-हॉर्स और डेंडी-हॉर्स से जाना जाने लगा।

    1818 में डेनिस जानसन नाम के व्यक्ति ने एक ही प्रकार की साइकिल खरीद में कई बदलाव किए और 'पैदल यात्री पाठ्यचर्या' नाम के लोगों के सामने एक अच्छा मॉडल पेश किया। जॉनसन ने १८१९ में लगभग ३०० पैदल चलने वालों के पाठ्यक्रम का निर्माण किया। जॉनसन का मॉडल बहुत महंगा था, इसलिए उन्हें ज्यादातर मनोरंजन के लिए या सुबह की सैर के लिए उच्च पदों के कुलीन लोगों द्वारा खरीदा गया था।

    1820 तक यह दुपहिया वाहन लोगों के बीच चर्चा का विषय बना रहा, लेकिन 40 साल तक इस क्षेत्र में कोई प्रगति नहीं हुई। 1836 के बाद, कई लोगों ने कई तरह के सुधारों के साथ, व्यावसायिक पैमाने पर साइकिल बनाना शुरू किया, जिसने इसे बहुत लोकप्रिय बना दिया।

    वर्तमान साइकिल का अविष्कार कब हुआ ?

    पहली वर्तमान साइकिल का अविष्कार 1863 में एक फ्रांसीसी मैकेनिक पियरे लालेमेंट द्वारा कि गई थी। उसने साइकिल के आगे के पहिये में पैडल लगा दिया था। पियरे लालेमेंट ने पेरिस में बच्चों और विकलांग लोगों के लिए कैरिज बिल्डर के रूप में काम किया। वहां उसने देखा कि कोई ड्रेसियन चला रहा है, जिसे देखकर उसे उसमें पैडल लगाने का विचार आया।


    इसके बाद भी और कई प्रयोग हुए जिसके बाद जॉन कैम्प ने ही 1885 में पहिली बार आज की तरह दिखने वाली साइकिल का अविष्कार किया। .

    साइकिल कितने प्रकार की होती है ?

    साइकिल मुख्यतः तीन प्रकार के होते हैं - 

    एमटीवी

    एमटीवी मुख्य रूप से मोटे टायर वाली बाइक हैं। उनका उपयोग पहाड़ों में और उबड़-खाबड़ रास्तों पर किया जाता है। यह बाइक मुख्य रूप से स्लीपिंग और फ्रंट में डिस्क ब्रेक के साथ आती है। ताकि पहाड़ों और ऑफ रोड में ब्रेक लगाने में कोई दिक्कत न हो। आजकल महंगी साइकिलों में हाइड्रोलिक ब्रेक भी आने लगे हैं। यह बाइक अच्छी कंपनी के 7-8000 से शुरू होकर 50000 तक आती है।

    हाइब्रिड

    एक हाइब्रिड साइकिल वह है जो ऑफ-रोड और ऑन-रोड दोनों तरह से सवारी कर सकती है, लेकिन बहुत सारे गड्ढे या उबड़-खाबड़ इलाके होने पर इसके रिम्स के मुड़ने का खतरा होता है। लेकिन हाइब्रिड साइकिल एमटीवी साइकिल की तुलना में ज्यादा तेज और स्मूद चलती है। ये साइकिलें काफी महंगी होती हैं। अगर आप किसी अच्छी कंपनी की बाइक लेते हैं तो यह 20000 से 100000 तक हो सकती है।

    सड़क या शहर

    इस साइकिल के टायर बेहद पतले हैं। यह साइकिल सड़क पर ही चलती है। इसलिए इन्हें रोड बाइक या सिटी बाइक कहा जाता है। अगर सड़क में गड्ढे या खुरदरापन है तो यह साइकिल चल नहीं पाएगी और फिसल जाएगी, शायद साइकिल की रिम भी झुक जाएगी। इस साइकिल का इस्तेमाल ज्यादातर रेसर्स करते हैं। यह चलने में बहुत हल्का है और तेज गति से चलने वाला है। ये साइकिलें बहुत महंगी होती हैं, एक अच्छी कंपनी की बाइक्स 30-35 हजार से शुरू होकर ढाई लाख तक आती हैं।

    ये साइकिल इतनी महंगी होने के बावजूद इनमें डिस्क ब्रेक और आगे की नींद नहीं होती है। क्योंकि रोड बाइक्स में इनकी जरूरत नहीं होती है, सोकर की जरूरत गड्ढों में पढ़ती है और बार-बार डिस्क ब्रेक लगाने के लिए, अगर आप शहर में ड्राइविंग करते समय रोड बाइक का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो आपको बार-बार ब्रेक लगाने पड़ते हैं। शायद इसीलिए यह डिस्क ब्रेक या हाइड्रोलिक ब्रेक के साथ नहीं आता है।

    साइकिल चलाने से हमारे समग्र स्वास्थ्य (शारीरिक, मानसिक और सामाजिक स्वास्थ्य) में सुधार होता है। अपना बजट साइकिल लें और हर दिन सवारी करें और अपने स्वास्थ्य को स्वस्थ रखें। 

    साइकिलिंग एक ऐसी एक्सरसाइज है जिसे आप बिना समय गंवाए कर सकते हैं। जैसे आप ऑफिस जा सकते हैं या बाजार जा सकते हैं या कोई भी ऐसा काम जो आप रोज करते हैं, आप इसे साइकिल के जरिए कर सकते हैं, और बिना समय दिए आप अपने शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं।

    दुनिया की सबसे महंगी साइकिल

    अगर हम दुनिया की सबसे महंगी साइकिल के बारे मेँ बात करें तो सबसे पहला नंबर पर ट्रेक बटरफ्लाई मैडोन (Trek Butterfly Madone) है। जिसकी कीमत करीब 5 लाख अमेरिकी डॉलर है। अगर भारत के हिसाब से देखा जाए तो इसकी कीमत 3 करोड़ 77 लाख के आसपास होगी ।

    वैसे मुझे नहीं लगता कि साइकिल कि इतनी कीमत होनी चाहिए ! परंतु यह केवल एक शौक है । 

    साइकिल से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य

    1. पहली पेडल साइकिल 1863 में एक फ्रांसीसी मैकेनिक पियरे लेलेमेंट द्वारा बनाई गई थी। उसने साइकिल के अगले पहिए में पैडल लगा रखा था। ललित ने पेरिस में बच्चों और विकलांगों के लिए कैरिज बिल्डर के रूप में काम किया। वहां उसने देखा कि कोई ड्रैसेन चला रहा है, जिसे देखकर उसे उसमें पैडल मारने का विचार आया।

    2. पेरिस के पियरे मिचौक्स ने ओलिवियर भाइयों (रेने और ऐम) के साथ मिलकर पहली बार 1867 में व्यावसायिक पैमाने पर पेडल साइकिल का निर्माण शुरू किया। वह हर महीने 200 से अधिक साइकिल बेचते थे।

     3. साइकिल के स्पोक व्हील का आविष्कार फ्रांसीसी मैकेनिक यूजीन मेयर ने 1869 में किया था। यूजीन मेयर ने 1880 में पेनी-फार्थिंग जैसी लोकप्रिय साइकिल भी बनाई थी। पेनी-फार्थिंग का अगला पहिया बहुत बड़ा था और पिछला पहिया छोटा था। 

    4. साइकिल की रोलर चेन का आविष्कार 1880 में इंग्लैंड के मैनचेस्टर में हैंस रेनॉल्ड ने किया था।

     5. ब्रिटिश आविष्कारक जेम्स स्टारली को इसके डिजाइन और अलग-अलग हिस्सों में महत्वपूर्ण बदलाव करके साइकिल के बड़े पैमाने पर निर्माण के कारण "साइकिल व्यापार का जनक" कहा जाता है।

    6. जेम्स स्टारली के भतीजे जॉन केम्प स्टारली को आज हम जिस साइकिल को देखते हैं उसका डिजाइन बनाने का श्रेय दिया जाता है। 1885 में, जॉन केम्प ही थे जो पहली बार बाजार में आज की तरह दिखने वाली साइकिल लाए थे। 

    7. यूरोप में पहली बार साइकिल शब्द का इस्तेमाल 1868 में साइकिल के लिए भारी शब्द वेलोसिपेड डी पेडल के स्थान पर किया गया था। साइकिल शब्द अंग्रेजी के दो शब्दों 'बाय' और 'साइकिल' से मिलकर बना है। बाई का अर्थ है 'दो' और चक्र का अर्थ है वृत्त।

    8. 1895 में ब्रिटेन में 8,00,000 से अधिक साइकिलें निर्मित की गईं और 1899 में संयुक्त राज्य अमेरिका में ११,००,००० से अधिक साइकिलों का निर्माण किया गया।

    9. आज भी नीदरलैंड में लगभग 27% छोटी दूरी की यात्रा साइकिल से पूरी होती है।

    10. नीदरलैंड में हर 8 में से 7 लोग; जिसकी आयु 15 वर्ष से अधिक है, उसका एक चक्र होता है।

    FAQ About  साइकिल का आविष्कार किसने किया था.

    साइकिल का आविष्कार कब और किसने किया था ?

    दो पहियों वाली पहली साइकिल जर्मनी में बनी थी। आविष्कारक थे बेरोन कार्ल वॉन ड्रेस डी साउबू्रन। वर्ष 1817 में उन्होंने 14 किमी. तक इसकी सवारी की थी।

    रेंजर साइकिल का कीमत कितना है ?

    सभी साइकिलों की कीमत उनकी कंपनी और क्वालिटी के आधार पर तय की जाती है जो की काम ज्यादा होती रहती है।

    दुनिया की सबसे महँगी साइकिल कौन सी है ?

    दुनिया की सबसे महंगी साइकिल ट्रेक बटरफ्लाई मैडोन (Trek Butterfly Madone) का है। जिसकी कीमत 5 लाख अमेरिकी डॉलर है। 

    साइकिल का हिंदी में नाम क्या है ?

    साईकिल का हिंदी में साइकिल ही है।

    साइकिल को संस्कृत में क्या कहा जाता है? 

    साईकिल को संस्कृत में द्विचक्रिका कहते है।

    साइकिल में मडगार्ड क्यों लगाए जाते हैं ?

    साइकिल मे मड गार्ड लगाया जाता है ताकि पहिये घूमने से कीचड़ हमारे ऊपर न हो !

    इन्हें भी पढ़ें :-

    Conclusion

    तो दोस्तों इस पोस्ट में मैंने आपको यह बताने का प्रयास किया की  साइकिल का आविष्कार किसने किया और इसके बारे में सभी जानकारी देने की कोशिश की। साथ ही साथ इसके बारे मे और जितनी ज्यादा हो सके मैंने जानकारी देने कि कोशिश कि है जैसे कि साइकिल का आविष्कार किसने किया से संबंधित कुछ प्रश्न उत्तर आदि । 

    अगर आपको यह अच्छा लगता है तो कृपया इसे अपने आस पास के लोगों तथा मित्रों को शेयर करें । 

    Post a Comment

    Please comment

    Previous Post Next Post