इंटरनेट की खोज किसने की ? पूरी जानकारी !

 नमस्कार दोस्तों स्वागत हैं आपका हमारे इस नए पोस्ट पर ! आज हम आपको बताएंगे की इंटरनेट की खोज किसने की? तथा भारत में इंटरनेट की शुरुआत कब हुई? और इंटरनेट के लाभ क्या हैं ? ये सभी बातें हम आपको इस पोस्ट में हम बताएंगे ।

तो दोस्तों जैसा की आप सब जानते ही होंगे की आज का युग बड़ा ही औटोमैटिक सा हो गया है । हम एक बटन प्रेस करके आज कुछ भी कर सकते है । हम चुटकी में किसी से भी फ़ोन में बात कर सकते है । हम घर बैठे अपने मोबाइल से ही पूरी दुनिया की जानकारी हासिल कर सकते है ।

इंटरनेट की खोज किसने की ? पूरी जानकारी !
इंटरनेट की खोज किसने की ? पूरी जानकारी !


    कहाँ क्या हो रहा है? कब हुआ ? कैसे हुआ ? इन सभी सवालों के जवाब आपको इंटरनेट में ढूंढने से आसानी से मिल जाती है । किसका अविष्कार किसने किया कब किया ये सब आप इंटरनेट की मदद से आसानी से जान जाते है ।

    Also Read :-

    लेकिन क्या अपने कभी यह सोचा की इंटरनेट की खोज किसने की? यह इसे कैसे बनाया गया होगा ? इसके पीछे का इतिहास क्या है ?... इसलिए आज हम ये पोस्ट आपके लिए तैयार कर रहे है ताकि आप इंटरनेट के बारे में या इसके इतिहास के बारे में या इंटरनेट की खोज किसने की? के बारे में पूरी जानकारी हासिल कर सकें । तो चलिए शुरू करते हैं ।

    Internet का फुल फॉर्म क्या है?

     इंटरनेट का फुल फार्म "Interconnected Network" है।

    इंटरनेट की खोज किसने की?

    यह सिर्फ एक व्यक्ति के इंटरनेट का आविष्कार करने में सक्षम होने की बात नहीं थी। इसे बनाने के लिए कई वैज्ञानिकों और इंजीनियरों की जरूरत थी। 1957 में शीत युद्ध के समय, अमेरिका ने एक ऐसी तकनीक बनाने के उद्देश्य से उन्नत अनुसंधान परियोजना एजेंसी (ARPA) की स्थापना की, जो एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर से जोड़ सके। 1980 उनका नाम इंटरनेट हो गया। 

    1970 के दशक में Vinton Cerf और Robert Kahn ने TCP/IP प्रोटोकॉल का आविष्कार किया और 1972 में Ray Tomlinson ने सबसे पहले ईमेल नेटवर्क की शुरुआत की। 1969 में इस एजेंसी ने ARPANET की स्थापना की। जिससे किसी भी कंप्यूटर को किसी भी कंप्यूटर से जोड़ा जा सकता है।

    इंटरनेट की खोज किसने की और कब?

    1970 के दशक में Vinton Cerf और Robert Kahn ने TCP/IP प्रोटोकॉल का आविष्कार किया

    Reviewhindi.in

    इंटरनेट की खोज किसने की ? इंटरनेट का पूरा इतिहास हिंदी में !

    इंटरनेट के आविष्कार ने दुनिया में क्रांति ला दी है, आज इंटरनेट इतना महत्वपूर्ण हो गया है कि अगर एक मिनट के लिए इंटरनेट बंद कर दिया जाए तो लाखों करोड़ का नुकसान होगा, आज बहुत कुछ इंटरनेट पर निर्भर हो गया है, हालांकि, तकनीक इंटरनेट की जानकारी लेने से हम बहुत सारी जानकारी ले सकते हैं और लोगों को जानकारी दे सकते हैं, क्योंकि इंटरनेट दुनिया भर के लाखों कंप्यूटरों से जुड़ा है, जिसके माध्यम से यह लाखों लोगों को इंटरनेट से जोड़े रखता है, आज दुनिया बहुत बहुत बिट डेटा का आदान-प्रदान किया जाता है।

    इंटरनेट अंतरराष्ट्रीय स्तर के नेटवर्क पर काम करता है, जो दुनिया के उपयोगकर्ताओं को एक साथ रखता है, वर्ल्ड वाइड वेब को इंटरनेट के लिए सबसे महत्वपूर्ण उपकरण माना जाता है क्योंकि इसके बिना आप इंटरनेट का अच्छी तरह से उपयोग नहीं कर सकते हैं यदि यह इंटरनेट से है तो आप चाहें तो किसी भी जानकारी को लेने के लिए आपको वर्ल्ड वाइड वेब की आवश्यकता होगी, इसके बिना कोई भी जानकारी नहीं मिल सकती है।

    और इंटरनेट में प्रवेश करने के लिए एक वेब ब्राउज़र की आवश्यकता होती है। वेब ब्राउज़र के बिना इंटरनेट का उपयोग नहीं किया जा सकता है। वेब ब्राउजर एक सॉफ्टवेयर है जिसके माध्यम से इंटरनेट का उपयोग किया जाता है और इंटरनेट का उपयोग दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है।

    इंटरनेट का आविष्कार पहली बार 1969 में DOD (डिपार्टमेंट ऑफ़ डिफेन्स)  द्वारा किया गया था। इंटरनेट को यूसीएलए और स्टैनफोर्ड रिसर्च इंस्टीट्यूट कंप्यूटरों को नेटवर्क करने और इंटरनेट पर सूचनाओं का आदान-प्रदान करने के लिए अमेरिकी रक्षा विभाग द्वारा संरचित किया गया था।

    जिस नियम का प्रयोग किया जाता है उसे टीसीपी (ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल) या आईपी (इंटरनेट प्रोटोकॉल) कहा जाता है और इसने पूरे इंटरनेट और सन, 1979 डाक ब्रिटिश पोस्ट ऑफिस पर पहला अंतरराष्ट्रीय कंप्यूटर नेटवर्क बनाकर नई तकनीक का उपयोग करना शुरू किया।

    नेटवर्क को बाद में लगभग 1980 में ARPN (एडवांस रिसर्च प्रोजेक्ट्स इन एजेंसी) द्वारा लॉन्च किया गया था और 1980 में ही बिल गेट्स ने IBM के कंप्यूटरों पर Microsoft ऑपरेटिंग सिस्टम लगाने और इंटरनेट का ठीक से उपयोग करने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

    1984 में Apple ने पहली बार एक "आधुनिक सफल कंप्यूटर" लॉन्च किया जिसमें फाइलें और फोल्डर, ड्रॉप डाउन मेनू, माउस, ग्राफिक्स का उपयोग आदि शामिल थे।

    और इंटरनेट का उपयोग सबसे अधिक आसानी से किया गया था जब 1989 में टिम बर्नर ली ने इंटरनेट पर संचार को सरल बनाने के लिए ब्राउज़र, पेज और लिंक का उपयोग करके वर्ल्ड वाइड वेब बनाया और 1998 में Google के आने के बाद, इंटरनेट उनका चेहरा बदल गया ताकि हम सभी आज जागरूक।

    और एक रिपोर्ट के मुताबिक एक परिवार इंटरनेट की स्पीड बढ़ाकर एक साल में इंटरनेट के खर्च में करीब 5 लाख रुपये बचा सकता है, सबसे ज्यादा पैसा एंटरटेनमेंट, ऑनलाइन डील्स, डेली सर्च और ट्रैवल इंटरनेट में खर्च होता है। और आज दुनिया की सबसे महंगी इंटरनेट सेवा तुर्कमेनिस्तान में है

    यहां असीमित इंटरनेट एक्सेस के लिए डॉलर दर पर 2048 है, जो बढ़कर 6,821.01 डॉलर प्रति माह हो जाता है। यहां सबसे सस्ती इंटरनेट सेवा 2 जीबी 64 केबीपीएस तक यूजर के लिए 43.12 डॉलर प्रति माह है। जबकि रूस में हाई-स्पीड अनलिमिटेड इंटरनेट करीब 20 डॉलर प्रति माह है।

    और यहां दक्षिण कोरिया में सबसे तेज इंटरनेट सेवा 2202 kbps की औसत गति है जो दुनिया में सबसे तेज है और अमेरिका दुनिया का सबसे अधिक इंटरनेट का उपयोग करने वाला देश है।

    भारत में इंटरनेट की शुरुआत कब हुई?

    अभी तक आपको को पता चल गया है कि इंटरनेट का आविष्कार किसने और कब किया, लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारत में इंटरनेट की शुरुआत सबसे पहले कब हुई थी और भारत में पहली बार इंटरनेट किसने शुरू किया था?

    भारत में पहला इंटरनेट लॉन्च 1986 था, लेकिन 14 अगस्त 1995 को सार्वजनिक रूप से उपलब्ध था, और इसे "राज्य के स्वामित्व वाली विदेश संचार निगम लिमिटेड (VSNL)" द्वारा लॉन्च किया गया था।

    दिसंबर 2017 के अनुसार, भारत में 481 मिलियन लोग इंटरनेट का उपयोग करते हैं, अर्थात भारत की कुल जनसंख्या का 35% , jio का उपयोग करने के बाद यह और भी अधिक हो गया है।

    Internet के अनुप्रयोग क्या है?

    आज, इंटरनेट के उपयोग का दायरा बहुत असीमित हो गया है। अपने प्रारंभिक चरण में, इंटरनेट का दायरा बहुत सीमित था और इसका उपयोग केवल वैज्ञानिक और रक्षा संबंधी कार्यों से संबंधित सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए किया जाता था।

    लेकिन जैसे-जैसे आम आदमी इंटरनेट की पहुंच में आया, इसके उपयोग का दायरा बढ़ता गया और आज इसका उपयोग असीमित क्षेत्रों में किया जा रहा है और इंटरनेट आज हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है। आज इंटरनेट का इस्तेमाल कई चीजों में होगा जैसे:-

    • मनोरंजन हेतु
    • बैंकिंग के लिए
    • किसी भी दस्तावेज़ को मेल द्वारा स्थानांतरित करने के लिए
    • एक दूसरे से बात करने के लिए
    • नए दोस्त बना सकते हैं
    • ऑनलाइन पढ़ाई कर सकते हैं
    • आप घर बैठे शॉपिंग कर सकते हैं
    • समाचार पढ़ सकते हैं
    • मोबाइल, बिजली, फोन के बिल जमा किए जा सकते हैं।
    • व्यापार को बढ़ावा देने के लिए।
    • विज्ञापन के लिए
    • किसी भी प्रकार की जानकारी आदि के लिए

    भारत में इंटरनेट का कौन सा दौर चल रहा है ?

    विदेश संचार निगम लिमिटेड ये पहली कंपनी है जिसने भारत में इंटरनेट कि स्थापना कि , भारत में इंटरनेट की शुरुआत 14 अगस्त सन 1995 में हुई थी हालांकि इसे शुरू 15 अगस्त के दिन किया गया था। विदेश संचार निगम लिमिटेड अपने अपने टेलेफोन लाइन ब्रॉडबैंड से के जरिए दुनिया से भारत के कंप्यूटरों को जोड़ा .

    इंटरनेट के बेसिक तत्व कौन से हैं?

    1. पर्सनल कम्प्यूटर (PC)

    2. मॉडेम (modem)

    3. संचार माध्यम

    4. इन्टरनेट सॉफ्टवेयर या वेब ब्राउजर

    5. इन्टरनेट सर्विस प्रोभाइडर (ISP)

    इंटरनेट से आप क्या समझते हैं इसके महत्व प्रकाश डालिए ?

    इंटरनेट दुनिया का सबसे बड़ा Network है। इसे आप विभिन्न कंप्यूटर नेटवर्क का एक विश्व स्तरीय समूह भी कह सकते हैं। यह एक वैश्विक कंप्यूटर नेटवर्क होता है, जो कई प्रकार के सूचना और संचार सुविधाए प्रदान करती है। असल में यह इंटरकनेक्टेड नेटवर्क (Interconnected Network) का एक बहुत बड़ा जाल होता है

    इंटरनेट से जुडी रोचक बातें -

    #1 क्या आप जानते हैं कि हम जिस इंटरनेट का उपयोग करते हैं वह पूरे इंटरनेट का केवल 5% है।

    #2क्या आप जानते हैं कि इंटरनेट पूरी तरह से मुफ्त है और हम जो चार्ज देते हैं वह उसके रखरखाव का खर्च है।

    #3क्या आप जानते हैं कि दुनिया का पहला ई-मेल 1971 में अमेरिका के कैम्ब्रिज नामक स्थान पर रे टॉमलिंसन नाम के एक इंजीनियर ने एक ही कमरे में रखे दो कंप्यूटरों के बीच भेजा था।

    #4क्या आप जानते हैं कि दुनिया का पहला वायरस क्रीपर अर्पानेट पर खोजा गया था। यह 1970 के दशक की शुरुआत में इंटरनेट से पहले आया था।

    #5क्या आप जानते हैं ईमेल www (वर्ल्ड वाइड वेब) से पहले बनाया गया था।

    #6क्या आप जानते हैं कि आज भी दुनिया की कुल आबादी का 40% इंटरनेट का इस्तेमाल करता है।

    FAQ About इंटरनेट की खोज किसने की

    इंटरनेट का प्रयोग सर्वप्रथम कहाँ से हुआ?

    अमेरिका मे, इसके रक्षा विभाग मे सर्वप्रथम उपयोग 1982 मे आफिस के संदेश आंतरिक रूप से भेजने के लिये किया था, उस समय इसका नाम Intranet था।

    इंटरनेट का शुरुआती नाम क्या है?

    1969 में DOD एजेंसी ने ARPANET की स्थापना की। जिससे किसी भी कंप्यूटर को किसी भी कंप्यूटर से जोड़ा जा सकता है।

    इंटरनेट का मुख्यालय कहाँ है?

    इसका मुख्यालय अमेरिका के लॉस एंजेल्स में स्थित है। ICANN का उद्देश्य स्थिर व सुरक्षित इन्टरनेट सेवा सुनिश्चित करना है। यह इन्टरनेट प्रोटोकॉल इत्यादि का समन्वय का कार्य भी करता है।

    इंटरनेट का पहला सॉफ्टवेयर कौन सा है?

    यह माइक्रोसॉफ्ट कंपनी द्वारा 1995 से जारी व चालू विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम लाइन का एक सॉफ्टवेयर है। जिसका नाम इण्टरनेट ऍक्सप्लोरर हैं । 

    इंटरनेट का अधिक प्रचलन क्यों है?

    इस क्रांति से छात्रों को सबसे अधिक सुविधा मिली है। …आज इंटरनेट के माध्यम से छात्र को पुस्तकों की आवश्यकता नहीं है क्योंकि सभी सामग्री ऑनलाइन उपलब्ध है। छात्र अपने मोबाइल - लैपटॉप या कंप्यूटर के माध्यम से जब चाहे, कहीं भी पढ़ और बैठ सकता है।

    भारत में इंटरनेट की शुरुआत कब हुई?

    इंटरनेट सेवाओं का  भारत में 15 अगस्त, 1995 को विदेश संचार निगम लिमिटेड द्वारा शुरू किए गए थे. नवम्बर, 1998 में, सरकार ने निजी ऑपरेटरों द्वारा इंटरनेट सेवाओं को उपलब्ध कराने के लिए क्षेत्र को खोला. एक दृश्य के साथ एक उदार लाइसेंस शासन जगह में डाल दिया गया था देश भर में इंटरनेट की पहुंच बढ़ाने.

    भारत में इंटरनेट पत्रकारिता का प्रारंभ कब से माना जाता है?

    भारत में इंटरनेट से पत्रकारिता करने का प्रारम्भ 1993 से माना जाता है. इसी वर्ष हमारे देश में इंटरनेट की शुरुआत हुई थी. इसका दूसरा चरण 2003 से हुआ.

    इन्हें भी पढ़ें :-

    Conclusion :-

    इस पोस्ट में मैंने आपको इंटरनेट की खोज किसने की ? इसके बारे में पूरी जानकारी दी। उम्मीद है की यह पोस्ट आपके लिए फायदेमंद होगी। अगर आपको यह पोस्ट ज्ञानवर्धक लगता हैं तो कृपया इसे शेयर करें।

    Post a Comment

    Please comment

    Previous Post Next Post