कागज का आविष्कार किसने किया और कब ?

कागज का आविष्कार किसने किया और कब? kagaj ka aavishkar kahan huaa दोस्तों, चट्टानों और गुफाओं की दीवारें अभी भी पूरी दुनिया में मानव की अभिव्यक्ति के लिए एक प्रागैतिहासिक विरासत प्रयासों के रूप में संरक्षित हैं। धीरे-धीरे लिपियों का विकास हुआ और उन्हें लिखने के लिए एक माध्यम की आवश्यकता थी।

जब मनुष्य को धातुओं के बारे में पता चला, तब सीसा, तांबा, पीतल या कांसे के अक्षरों पर लिखने का प्रयास किया गया। यह कार्य अत्यंत कठिन था, लेकिन इनकी स्थिरता के कारण इनका उपयोग महत्वपूर्ण विषयों और नियमों को लंबे समय तक सुरक्षित रखने के उद्देश्य से किया जाता था।

चलिए जानते है -कागज का आविष्कार किसने किया ?

    कागज का आविष्कार किस देश में हुआ है?

    कागज का आविष्कारक चीन को माना जाता है क्योंकि कागज का इस्तेमाल सबसे पहले चीन में किया गया था। कागज का आविष्कार करने वाले का नाम काई लुन है, जो चीन का रहने वाला था। उन्होंने 202 ईसा पूर्व में कागज का आविष्कार किया ।

    कागज का आविष्कार किसने किया :- कागज का आविष्कार हान राजवंस के समय में हुआ था। यह स्पष्ट हो गया कि चीन में कागज का आविष्कार किया गया था, लेकिन चीन के बाद भारत ही एकमात्र ऐसा देश है जहां कागज बनाने और उपयोग के प्रमाण मिलते हैं।

    सिंधु सभ्यता के दौरान भारत में कागज के निर्माण और उपयोग के कई सबूत सामने आए हैं, जिससे यह साबित होता है कि चीन के बाद भारत में पहला कागज बनाया और इस्तेमाल किया गया था। ऐसा माना जाता है कि इस खोज के बाद से पूरे विश्व में कागज का व्यापक रूप से उपयोग किया जाने लगा।

    कागज की खोज किस सन में हुई ?

    105 वर्षों में काई लून ने भी सम्राट के दरबार में इसका वर्णन किया। इसके लिए शहतूत और अन्य पेड़ों की छाल से रेशे, पुराने मछली पकड़ने के जाल, पुराने कपड़े और अन्य रेशेदार सामग्री को अलग करके पानी में मिलाकर एक पतली परत के रूप में सुखाया जाता था।

    कागज बनाने की कला जापान (610 ई.) और फिर समरकंद (ई. 751), बगदाद (ई. 793), दमिश्क, मिस्र और मोरक्को के रास्ते मूरों के साथ जापान पहुंची। यूरोप में पहला पेपर 1150 ई. में स्पेन में बनाया गया था। फिर इटली, फ्रांस, जर्मनी, इंग्लैंड, पोलैंड, ऑस्ट्रिया, रूस, डेनमार्क और नॉर्वे में कागज बनाने का उल्लेख मिलता है।

    स्पेन के लोग कागज बनाने का ज्ञान अपने साथ उत्तरी अमेरिका ले गए और मेक्सिको सिटी के पास एक कागज उद्योग स्थापित किया गया। संयुक्त राज्य अमेरिका में पहली पेपर मिल 1690 में जर्मेनटाउन, पेनसिल्वेनिया में विलियम रिटेन हाउस के प्रयासों से बनाई गई थी।

    पहला कनाडाई कारखाना 1803 में सेंट एंड्रयूज, क्यूबिक में स्थापित किया गया था। यह इतना कागज बनाता था कि उस पर मॉन्ट्रियल गजट नामक पत्रिका छप सकती थी।

    कागज बनाने के ये सभी ऐतिहासिक प्रयास मूल रूप से चीनी पद्धति पर आधारित थे। जब तक कागज बनाने की मशीनें लगातार गति से नहीं बनती थीं, तब तक कागज की कागज़ की चादरें एक-एक करके बनाई जाती थीं। आज भी हस्तनिर्मित कागज इसी विधि से बनाया जाता है।

    प्राचीन समय में कागज के रूप- कागज का इतिहास ?

    सुमेरियन सभ्यता में मिट्टी से बने कागज़ात तैयार करने की प्रथा थी। ६००० साल पहले के उनके अवशेष अभी भी पूर्वी भूमध्यसागरीय देशों में पाए जाते हैं। लेकिन लेखन के माध्यम के रूप में इन सभी प्रयासों की अपनी सीमाएँ थीं। मिस्र में 5000 साल पहले, घास के डंठल के बाहरी आवरण से एक प्रकार का कागज बनाया जाता था, जिसे पपरिस कहा जाता था, जो नील नदी के तट पर बहुतायत में पाए जाते थे।

    यह आवरण रेशों जैसी सामग्री थी जिसे सावधानी से क्रॉसवाइज और तिरछे दबाया जाता था। घास से मिलने वाले रेशों के साथ-साथ गोंद जैसा प्राकृतिक पदार्थ हुआ करता था, जो इन रेशों को जोड़ने का काम करता था। सुखाने पर उपलब्ध सामग्री कागज के अक्षरों के रूप में प्राप्त हुई। यह कार्य कई शताब्दियों तक लेखन का माध्यम बना रहा। बाद में 'पेपर' शब्द की उत्पत्ति उसी पर्पस से हुई।

    प्राचीन रोम और ग्रीस में, किताब बनाने के लिए लकड़ी के तख्तों को मोड़ा जाता था। इन तख्तियों को मिलाकर पुस्तक का रूप दिया गया। इन तख्तियों के ऊपर मोम या अन्य सामग्री ढँकी हुई थी और धातु की लेखनी से लिखने का कार्य किया जाता था। ग्रीस में इन किताबों को कोडिस कहा जाता था।

    बुने हुए कपड़े का इस्तेमाल 250 ईसा पूर्व चीन में लेखन और पेंटिंग के लिए किया जाता था। लिखने के लिए ऊंट के बालों से बने ब्रश और स्याही का इस्तेमाल किया जाता था। इस कपड़े को मोड़कर एक बेलनाकार शीर्ष के रूप में रखा जा सकता है। यह पुस्तक का पहला और पहला आकार था।

    भारत और उसके पड़ोसी देशों में ताड़ के पत्तों और दावत पर लेखन किया जाता था। भोजपत्र पर्वतीय क्षेत्रों में पाया जाने वाला एक वृक्ष है, इसकी सूंड की छाल कागज की तरह पतली और हल्के रंग की परत से लिपटी होती है। पेड़ इस परत को अपने आप छोड़ देते हैं। इस परत को बिर्च बार्क कहा जाता है और इसे हटाने से पेड़ को कोई नुकसान नहीं होता है। बाद में इन्हीं अक्षरों के नाम से कागज के अक्षर को पत्ता कहा जाने लगा।

    ताड़ के पत्तों की प्राचीन प्रतियां और भोजपत्र पर लिखे कई दुर्लभ ग्रंथ अभी भी कई निजी और संस्थागत संग्रहालयों में संरक्षित हैं। जिस पेड़ की छाल प्राचीन रोम के लोग इस्तेमाल करते थे, उसे लिब्रे कहा जाता था। इससे पुस्तक के लिए लैटिन शब्द लिब्रे का जन्म हुआ। बाद में पुस्तकालय शब्द की उत्पत्ति इसी से हुई। 

    लगभग 4000 साल पहले ग्रीस में भेड़, बकरी आदि जानवरों की खाल से पार्चमेंट बनाया जाता था। इसके लिए त्वचा की सफाई कर बालों को हटाया गया। उसके बाद उसकी दोनों सतहों को खुरच कर समतल कर दिया गया और अंत में प्यूमिस के चूर्ण  से रगड़ कर चिकना कर दिया गया। उस पर लिखने के लिए पार्चमेंट का प्रयोग किया जाता था। यह एक मजबूत और लंबे समय तक रहने वाला पदार्थ है।

    भारत मे कागज के उद्योग - कागज का आविष्कार किसने किया ?

    भारत में पहली पेपर मिल कश्मीर में स्थापित की गई थी, जिसकी स्थापना वहां के सुल्तान जैनुल आबिदीन ने की थी। 1887 में टीटा पेपर मिल्स नाम से एक पेपर बनाने वाली मिल भी स्थापित की गई थी, लेकिन यह मिल कागज बनाने में विफल रही। आधुनिक कागज उद्योग कलकत्ता में हुगली नदी के तट पर बाली नामक स्थान पर स्थापित किया गया था।

    FAQ About कागज का आविष्कार किसने किया ?

    कागज का आविष्कार किसने किया ?

    कागज का आविष्कारक चीन को माना जाता है क्योंकि कागज का इस्तेमाल सबसे पहले चीन में किया गया था। कागज का आविष्कार करने वाले का नाम काई लुन है, जो चीन का रहने वाला था। उन्होंने 202 ईसा पूर्व में कागज का आविष्कार किया ।

    कागज का आविष्कार कहाँ हुआ था?

    कागज का आविष्कार चीन मे हुआ ।

    कागज का आविष्कार क्यों जरुरी था?

    प्रत्येक चीजों मे कागज का उपयोग होता है व्यापार से लेकर पढ़ाई लिखाई तक । तो इसका आविष्कार जरूरी ही है ।

    भारत में कागज का प्रयोग कब से प्रारंभ हुआ?

    भारत में कागज का प्रयोग 12वीं शताब्दी से शुरू हुआ था। लेकिन यह एक विवादित विषय है। आयोग ने उत्तर को 12वीं शताब्दी माना। जबकि भारतीय इतिहासकारों का मानना है कि 12वीं सदी से पहले भारत में कागज का इस्तेमाल नहीं होता था।

    इन्हें भी पढ़ें :-

    Conclusion :-

    मुझे उम्मीद है कि मेरी यह पोस्ट कागज का आविष्कार किसने किया ? आपको पसंद आई होगी । अगर आपको यह ठीक लगती है तो कृपया अपने सोशल मीडिया मे शेयर करें ।

    Post a Comment

    Please comment

    Previous Post Next Post