बिजली का आविष्कार किसने किया ?

क्या आप जानते है कि बिजली का आविष्कार किसने किया ? अगर नहीं जानते तो बने रहिए क्योंकि आज हम आपको इसके इतिहास से लेकर वर्तमान तक पूरी जानकारी देंगे । 

दुनिया में कुछ ऐसे आविष्कारक हैं जो दुनिया को बदल देते हैं, जैसे आग का आविष्कार, आग की खोज, तेल की खोज, इंटरनेट का आविष्कारक और और भी कई चीजें हैं जो दुनिया को एक नई ऊंचाई पर ले जाती हैं। 

इसी तरह आज हम कुछ और आविष्कारों की बात करते हैं, आज इस पोस्ट में हम आपको बिजली का आविष्कार किसने किया ? के बारे में बताएंगे, कि कैसे बिजली का आविष्कार हुआ। 
बात अगर दूसरी चीज की करें तो उनमें से कुछ डालनी पड़ती है, अगर हम कार के लिए पावर कि बात करते है तो, हमें उसमें तेल की जरूरत होती है, तभी उसे पावर मिलती है। 

अगर स्टीम इंजन कि बात कि जाए तो पहले उसके अंदर पानी डालना पड़ता था और फिर उस पानी को गर्म करने के बाद जो कुछ भाप उत्पन्न होता हैं , उसकी शक्ति के कारण कार का इंजन चलता है।
    बिजली का आविष्कार किसने किया :-हाँ दोस्तों बिजली एक ऐसी शक्ति है जो बिना कुछ डाले ही उत्पन्न होती है, लेकिन उसके लिए हमें कुछ चीजों की जरूरत होती है, जिस चीज से बिजली चलती है, उस चीज को हमें किसी ऐसी चीज से चलाना होता है जैसे कि हमें किसी जनरेटर से बिजली मिली हो।

    यदि हम उत्पन्न करते हैं, तो पहले हमें जनरेटर के इंजन के अंदर कुछ तेल डालना होगा, फिर वह जनरेटर बिजली उत्पन्न करेगा और बात करेगा,  इससे न सिर्फ हमारा काम आसान हुआ है, बल्कि वह काम इतनी तेजी से होने लगा है कि किसी को अंदाजा भी नहीं होगा कि यह काम इतनी तेजी से हो सकता है, आज के समय में हमारी अहमियत है. जीवन में अगर कुछ समय के लिए बिजली न हो तो हमारे लगभग सभी काम ठप हो जाते हैं।

    वैसे तो हम कई बार देखते हैं और आपको कहीं न कहीं जानकारी मिल गई होगी या आपने पढ़ा होगा कि इंटरनेट ने हमारे जीवन को गति दी है या मोबाइल फोन ने हमारे काम को तेज कर दिया है लेकिन अगर बिजली नहीं है तो इंटरनेट और मोबाइल फोन लैपटॉप कंप्यूटर आदि। 

    ये कोई नहीं होगा उपयोगी उपकरण, इसलिए मेरा मानना​​ है कि दोस्तों की बिजली के आविष्कार ने सभी कामों को तेज कर दिया है, हालांकि हर किसी का काम किसी न किसी पर निर्भर करता है, इसलिए हमारा लगभग सारा काम बिजली पर ही होता है। यह निर्भर है और बिजली का आविष्कार बहुत पुराना है इसलिए आज हम आपको इस पोस्ट में बिजली के आविष्कार के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी बताएंगे। 

    बिजली का आविष्कार किसने किया
    बिजली का आविष्कार किसने किया ? पूरी जानकारी !

    बिजली के आविष्कार का इतिहास ?

    विद्युत ! ऊर्जा का एक रूप है जो प्रकृति में पहले से मौजूद है। तो इसका आविष्कार नहीं हुआ था बल्कि इसकी खोज की गई थी। कई प्रयोगों की मदद से प्रकाश और बिजली के बीच संबंध बनाया गया। लेकिन इसे खोजने की जरूरत का श्रेय बेंजामिन फ्रैंकलिन को दिया जाता है। 

    यह सबसे पहले महान यूनानी दार्शनिक और भौतिक विज्ञानी थेल्स द्वारा खोजा गया था कि एम्बर (चीड़ के पेड़ का सड़ता हुआ रस या गोंद) को कपड़े पर रगड़ने से यह सूखे पत्तों, पंखों आदि को आकर्षित करने की क्षमता रखता है।

    चूंकि एम्बर को ग्रीक में इलेक्ट्रॉन कहा जाता है, इसलिए थेल्स ने इस संपत्ति का नाम 'विद्युत' रखा और यही शब्द बिजली के लिए इस्तेमाल किया जाने लगा।

    चूँकि एम्बर में प्रकाश की वस्तुओं को अपनी ओर आकर्षित करने का गुण घर्षण क्रिया द्वारा उत्पन्न किया गया था, इस प्रकार उत्पन्न बिजली को घर्षण बिजली कहा जाता है। आवेश के इलेक्ट्रॉनिक सिद्धांत के आधार पर घर्षण विद्युत की व्याख्या की गई।

    इसके बाद 1930 के दशक में कई शोधकर्ताओं ने तांबे के बर्तन पाए जो प्राचीन बैटरी बनाने के लिए इस्तेमाल किए गए थे और प्राचीन रोमन स्थलों को रोशन करने के लिए इस्तेमाल किए गए थे। ऐसा उपकरण बगदाद में खुदाई के दौरान मिला था। माना जा रहा है कि ये लोग बैटरी के लिए इसका इस्तेमाल करते थे।

    लेकिन 17वीं सदी तक बिजली से जुड़ी कई खोजें हो चुकी थीं। जैसे इलेक्ट्रोस्टैटिक जेनरेटर, बिजली में पॉजिटिव और नेगेटिव करंट और कंडक्टरों या इंसुलेटर का वर्गीकरण।

    1752 में, बेन फ्रैंकलिन ने एक पतंग, एक चाबी की मदद से साबित कर दिया कि बिजली जो बदले में होती और छोटी बिजली की चिंगारी दोनों एक ही चीज थी। इसके बाद 1800 में इटली के भौतिक विज्ञानी एलेसेंड्रो वोल्टा ने एक प्रयोग में पाया कि विशेष रासायनिक अभिक्रियाओं की मदद से हम बिजली भी बना सकते हैं। और उन्होंने सन 1800 में वोल्टाइक पाइल का अविष्कार किया,जो लगातार बिजली पैदा कर सकता है।

    बिजली का आविष्कार किसने किया ?

    1831 में जब माइकल फैराडे ने इलेक्ट्रिक डायनेमो का आविष्कार किया तो बिजली का इस्तेमाल तकनीक के लिए किया जाने लगा। इससे बिजली पैदा करने की समस्या दूर हो गई। माइकल फैराडे के इलेक्ट्रिक डायनेमो में एक चुंबक था जो तांबे के तार की एक कुंडली में घूमता था और थोड़ी मात्रा में विद्युत प्रवाह उत्पन्न किया।

    इसके बाद बिजली के क्षेत्र में कई प्रयोग किए गए और बिजली से चलने वाले नए उपकरण बनाए गए। 1878 के आसपास थॉमस एडिसन और उनके सहयोगियों ने फिलामेंट लाइट बल्ब का आविष्कार किया। और दूसरे बल्ब का आविष्कार भी कई अन्य वैज्ञानिकों ने किया था।

    बिजली के बारे मेँ रोचक तथ्य :-

    (1) क्या आपको पता है आसमान से गिरने वाली बिजली 10 करोड़ volt की होती है, जबकी हमारे घरों में जो करंट आता है वो सिर्फ 220 volt का आता है बावजूद हमारी जान लेने में सक्षम होता है तो समझ सकते हैं आसमान से गिरने वाली बिजली कितनी खतरनाक होती होगी

    (2) आसमानी बिजली में 10,000 amp करंट होता है, और हमारे घरों में चलने वाले वॉशिंमशिन, टीवी, फ्रिज सब सिर्फ 5 amp पे चल जाता है, समझ सकते है बिजली का पावर कितना होगा

    (3) 44°C गरमी तक इंसान जिंदा रह सकते है, 100°C गरमी में पानी भाप बनने लगता है और आसमान से गिरने वाली बिजली 30,000°C तक होती है, जो कि सूर्य की सतह के तापमान से 5 गुना अधिक है

    (4) क्या आपको पता है भारत में हर साल 2500-3000 लोग बिजली गिरने से मारे जाते है

    (5) एक सर्वे के अनुसार बिजली गिरने से मरने वालों की संख्या में 80% पुरूष और सिर्फ 20% ही महिलाएं होती है

    (6) आसमान बिजली में इतनी ताकत होती है कि 100 वॉट का बल्ब 3 महिने तक जलाया जा सकता है

    (7) दुनिया में सबसे ज्यादा बार बिजली Roy Cleveland Sullivan नामक व्यक्ति पर गिरी है कुल 7 बार, फिर भी सातों के सातों बार वो आदमी बच गया है

    (8) जरूरी नही की बिजली सिर्फ आपको नुकसान ही पहूँचाती है, एक बार एक लकवा ग्रस्त इंसान अपने बगीचे मे अपनी व्हीलचेयर पर टहल रहा था उसपे बिजली गीरी और वो बेहोश हो गया, अगले दिन जब उसे अस्पताल में होश आया तब पता चला उसका लकवा ठीक हो गया, लेकिन इसकी संभावना ना के बराबर है तो आजमाने का सोचना भी मत

    (9) आज तक सिर्फ 10% प्रतिशत लोग ही आसमानी बिजली गिरने से मरें है क्योंकि इसकी शक्ति कितनी भी हो लेकिन सेकंड के हजार वे भाग में रहती है इसलिए उतना नुकसान नहीं पहुंचा पाती

    (10) क्या आपको पता है बिजली की सबसे अच्छी प्रवाहकत्त्व धातु चांदी है

    (11) दुनिया में सबसे ज्यादा बिजली पानी की मदद से ही उत्पन्न करी जाती है

    (12) दुनिया में सबसे ज्यादा बिजली उत्पन्न करने वाला देश चीन है, भारत तीसरे स्थान पर है

    (13) भारत में सबसे ज्यादा सोलर एनर्जी उत्पन्न करने वाला राज्य गुजरात है

    (14) भारत में बिजली पाने वाला सबसे पहला शहेर बेंगलुरु है

    (15) क्या आपको पता है भारत में सबसे पहले बिजली का उपयोग 24 july 1879 को कोलकाता में किया गया था

    (16) क्या आपको पता है बिजली गिरने की सबसे अधिक संभावना दोपहर को होती है

    (17) आकाशीय बिजली में इतनी उर्जा होती है कि सिर्फ एक बार में ही 1.5 लाख ब्रेड सेक सकते है

    FAQ About बिजली का आविष्कार किसने किया ?

    भारत में बिजली का आविष्कार कब हुआ?

    डीजल से पहली बार बिजली का उत्पादन दिल्ली में 1905 में शुरू हुआ था. इसी तरह मैसूर में 1902 में जल विद्युत उत्पादन केन्द्र बना था.

    बिजली के जन्मदाता कौन है?

    आधुनिक रूप से बिजली के जन्मदाता माइकल फैराडे ही हैं उन्होंने बताया कि हम तार के कुंडल के पास एक चुंबक को ले जाकर विद्युत प्रवाह उत्पन्न कर सकते हैं। इस से जनरेटर पैदा हुआ था।

    विद्युत की उत्पत्ति कैसे हुई?

    विद्युत उत्पादन के मूलभूत सिद्धान्त की खोज अंग्रेज वैज्ञानिक माइकेल फैराडे ने 1820 के दशक के दौरान एवं 1830 के दशक के आरम्भिक काल में किया था। तार की एक कुण्डली को किसी चुम्बकीय क्षेत्र में घुमाकर विद्युत उत्पन्न करने की माइकेल फैराडे की मूल विधि आज भी उसी रूप में प्रयुक्त होती है।

    इन्हें भी पढ़ें :-

    Conclusion :-

    तो दोस्तों आज कि इस पोस्ट मे मैंने आपको इसके बारे मे पूरी तरह से जानकारी देने का प्रयास किया कि आखिर बिजली का आविष्कार किसने किया तथा कब हुआ ?

    दोस्तों जैसा कि अपने इसमे कई सारे वैज्ञानिकों का नाम सम्मिलित देखा होगा , ऐसा इसलिए होता है क्योंकि किसी भी चीज का वह स्वरूप जो आज हम देखते है उसे उस रूम मे आने मे कई सालों कि मेहनत तथा कई सारे वैज्ञानिकों का ज्ञान समय और ज्ञान लगा होता है ।

    किसी भी चीज कि खोज एक बार मे नहीं होता वह पीढ़ि दर पीढ़ी देखा परखा जाता है तथा उसमे नए कार्य किये जाते है । और जो आखिर मे सही चीज कि खोज करता हैं उसी वैज्ञानिक का नाम होता है लेकिन उसके पीछे कई लोगों कि सालों कि मेहनत लगी होती है । अगर आपको लगता है कि यह लेख ज्ञानवर्धक है तो कृपया इसे अपने संबंधियों को शेयर करें । 

    Post a Comment

    Please comment

    Previous Post Next Post