घड़ी का आविष्कार किसने किया था ?

 घड़ी का आविष्कार किसने किया था? आज स्मार्टवॉच का समय है जिसमें हम न केवल समय देख सकते हैं बल्कि अपने स्वास्थ्य संबंधी ट्रैकिंग जैसे फुटस्टेप, दिल की धड़कन आदि को भी ट्रैक कर सकते हैं। स्मार्टवॉच कुछ साल पहले ही शुरू हुई थीं और वे अधिक से अधिक उन्नत होती जा रही हैं।

लेकिन आज भी लोग हाथों में सादी घड़ियां पहनते हैं। कुछ लोग फोन का इस्तेमाल सिर्फ समय देखने के लिए करते हैं क्योंकि यह हमेशा हाथ में या जेब में रहता है। आज हम नहीं जानते कि कितने प्रकार की अग्रिम घड़ियाँ और उपकरण मिल सकते हैं जिनमें समय का सही-सही पता लगाया जा सकता है, लेकिन पहले ऐसा नहीं था।

घड़ी का आविष्कार किसने किया था?
घड़ी का आविष्कार किसने किया था ? 

    आज हम सभी के घर में आधुनिक घड़ियां हैं लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इन आधुनिक घड़ियों की शुरुआत कहां से हुई? अगर नहीं तो इस लेख को फिर से पढ़ें! इस लेख में हम आपको बताते हैं कि घड़ी का आविष्कार किसने किया था? वे घड़ी का आविष्कार कब हुआ और घड़ी के आविष्कार का महत्व जैसे विषयों पर जानकारी देने जा रहे हैं।

    घड़ी क्या है?

    घड़ी ऐसी युक्ति कहलाती है जो सटीक समय बताती है। घड़ियां कई प्रकार की होती हैं जैसे सन क्लॉक, वॉटर क्लॉक और इलेक्ट्रॉनिक क्लॉक! लेकिन जिसे हम सब घड़ी के नाम से जानते हैं उसे Wrist Watch कहते हैं।

    यह एक प्रकार का पोर्टेबल डिवाइस है जिसे संभालना बहुत आसान है। हम इस प्रकार की घड़ी हाथ में पहनते हैं। कुछ लोगों को पॉकेट वॉच भी पसंद होती है, जो आज से कुछ साल पहले लोगों की पसंद थी। उस समय के लोगों की पॉकेट घड़ी का अपना एक अलग ही महत्व था। इस प्रकार की घड़ियाँ जेब में रखी जाती थीं। वह जब भी समय देखना चाहता था, वह अपनी जेब से निकाल कर समय देखता था।

    कलाई घड़ी एक प्रकार की छोटी एनालॉग घड़ी होती है जिसके चारों ओर एक पट्टा बंद होता है जो कपड़े, चमड़े या धातु से बना होता है। यदि यह धातु से बना है, तो इसके साथ धातु की कड़ियाँ जुड़ी हुई हैं, जो इसे ब्रेसलेट का रूप भी देती हैं। इस बेल्ट को स्ट्रेप कहा जाता है। यह पट्टा कलाई के चारों ओर बंधा होता है और एक कोने में बंद होता है।

    इस प्रकार की एनालॉग घड़ी हाथों पर बंधी होती है। यह घड़ी तब शुरू हुई जब एक विद्वान को लगा कि उसकी घड़ी उसकी जेब में नहीं बल्कि उसके हाथों में होनी चाहिए। उसने रस्सी बांधी और हाथ में घड़ी बांध दी। उस समय विद्वान के दोस्तों ने उसका मजाक उड़ाया लेकिन यह एक नया आविष्कार था। आज हम सभी हाथों में घड़ियां पहनते हैं।

    पहली घड़ी का आविष्कार किसने किया था?

    घड़ी का आविष्कार पीटर हेनलेन ने किया था। घड़ी का आविष्कार दुनिया के सबसे महत्वपूर्ण और महत्वपूर्ण आविष्कारों में से एक माना जा सकता है। वैसे तो स्मार्टफोन और स्मार्टवॉच के आने से लोगों को हैंड वॉच का उतना शौक नहीं रहा जितना पहले हुआ करता था, लेकिन अगर घड़ी का आविष्कार नहीं हुआ होता तो शायद हम सही समय और दुनिया को नहीं रख पाते। उतना विकसित नहीं है जितना आज है। घड़ी के अविष्कार का श्रेय किसी एक व्यक्ति को नहीं जाता।

    जब दुनिया की विभिन्न सभ्यताएं एक-दूसरे से जुड़ी नहीं थीं, तब भी विद्वानों ने समय को देखने के अपने-अपने तरीके खोज लिए थे। किसी ने धुएँ की घड़ियाँ और किसी ने पानी की घड़ियाँ बनायीं! लेकिन अगर आप गूगल पर हू इन्वेंटेड वॉच सर्च करते हैं तो पीटर हेनलेन का नाम सामने आता है। पीटर हेनले वह व्यक्ति है जिसे घड़ी के आविष्कार का सबसे अधिक श्रेय दिया जाता है।

    घड़ी की घड़ी का आविष्कार करने वाले पहले व्यक्ति पीटर हेनले थे। पीटर हेनले द्वारा बनाया गया एक उपकरण, जिसे क्लॉक वॉच नाम दिया गया था, बिल्कुल सटीक समय पारित करता था।

    उसके बाद, पीटर की तकनीक का उपयोग करके और अधिक उन्नत घड़ियाँ बनाई गईं, जो छोटी और बेहतर थीं। लेकिन अगर आप सोच रहे हैं कि पीटर हेनले द्वारा घड़ी के आविष्कार से पहले लोगों को समय का पता नहीं था, तो वे गलत हैं।

    वैसे तो ज्यादातर लोग सूरज की दिशा देखकर ही समय का अंदाजा लगा लेते थे, लेकिन लोगों के पास सही समय जानने के तरीके भी थे। भारत में लगभग 5 स्थानों पर जंतर मंतर जैसे स्थान हैं, जो बताते हैं कि उस समय के लोगों के पास सही समय देखने के लिए यंत्र भी थे।

    घड़ी के आविष्कार का श्रेय पॉप सिल्वेस्टर II को भी जाता है, जिन्होंने 996 ईस्वी में एक ऐसा उपकरण तैयार किया था जो सही समय बताता था। वर्ष 1288 में इंग्लैंड के घंटाघर में घड़ियां शुरू की गईं। घड़ी की मिनट की सुई का आविष्कार भी स्विट्जरलैंड के जोश बरगी ने किया था।

    हाथ से पहने जाने वाली कलाई घड़ी का आविष्कार कैलकुलेटर का आविष्कार करने वाले महान वैज्ञानिक ब्लेज़ पास्कल ने किया था। यह वही व्यक्ति था जिसने काम करते हुए समय देखने के लिए घड़ी में रस्सी बांधना और हाथ में बांधना शुरू किया।

    घड़ी का आविष्कार कब हुआ था?

    पीटर हैनली ने लॉकवॉच का आविष्कार करने से पहले ही, लोग उन उपकरणों का उपयोग कर रहे थे जो सटीक समय बताते थे। लेकिन पीटर ने 150 . में इंग्लैंड में घड़ी की घड़ी का आविष्कार किया5. पीटर हेनले द्वारा घड़ी की घड़ी के आविष्कार के बाद ही 1577 में स्विट्जरलैंड के जोस बर्गी ने मिनट की घड़ी का आविष्कार किया था।

    इसके बाद पॉकेट वॉच का आविष्कार हुआ और लगभग 1650 लोग अपनी जेब में घड़ियां लेकर चलते थे। लेकिन ब्लेज़ पास्कल ने इस घड़ी को अपने हाथों पर रस्सी से बांध दिया और इस तरह कलाई घड़ी चालू कर दी। इसके बाद साल 1988 में स्टीव मान ने पहली लिनक्स स्मार्ट घड़ी का आविष्कार किया जो एक सेल हेड चलाती थी। आपको बता दें कि स्टीव को वियरेबल कंप्यूटर का जनक भी कहा जाता है।

    घड़ी के आविष्कार का महत्व

    किसी भी ट्रेन का उपयोग सटीक समय अनुमान के लिए किया जाता है। आज हमारे पास समय देखने के लिए कई प्रकार के उपकरण हैं जैसे स्मार्ट घड़ी, एनालॉग घड़ी, इलेक्ट्रॉनिक घड़ी और स्मार्टफोन आदि!

    औजार भी सदियों पहले के लोगों के पास थे, लेकिन उन्होंने सही समय नहीं बताया। वे जानते थे कि अब समय क्या है, लेकिन उन्हें उतनी जानकारी नहीं मिल सकी, जितनी हम सही समय के बारे में जानते थे।

    वैसे भी मनुष्य का स्वभाव रहा है कि वह प्रकृति से ज्यादा मशीनों पर भरोसा करता है क्योंकि मशीन बिल्कुल सटीक काम करने में सक्षम है। यही कारण है कि घड़ी का आविष्कार एक महत्वपूर्ण आविष्कार है। घड़ी का आविष्कार उन आविष्कारों में से एक है जो दुनिया में बहुत तेजी से फैला है।

    यांत्रिक घड़ी का आविष्कार किसने और कब किया था?

    यांत्रिक घड़ी का आविष्कार 1725 में चीन के ऐ सिंग और लियांग सैन ने किया था।

    पेंडुलम घड़ी का आविष्कार किसने और कब किया था?

    पेंडुलम घड़ी का आविष्कार नीदरलैंड के क्रिश्चियन ह्यूजेंस ने 1656 में किया था।

    इन्हें भी पढ़ें :-

    Conclusion :-

    मुझे उम्मीद है कि मैंने आपको घड़ी का आविष्कार किसने किया था? के बारे में पूरी जानकारी दी है और मुझे उम्मीद है कि आपको घड़ी क्या है के बारे में जानकारी मिल गई होगी।अगर आपके लिए हमारा यह आर्टिकल जरा भी मददगार साबित होता है तो कृपया इसे शेयर करें । 

    Post a Comment

    Please comment

    Previous Post Next Post