लैपटॉप क्या है, इसके फायदे और नुकसान

लैपटॉप क्या है ? (What is Laptop in Hindi)? क्या आपने कभी लैपटॉप का इस्तेमाल किया है? यदि हाँ तो शायद आपको इसके बारे में जानकारी हो। लेकिन अगर नहीं तो घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि आज इस लेख के माध्यम से हम जानेंगे कि लैपटॉप कंप्यूटर क्या है और इसके मुख्य घटक क्या हैं?

लैपटॉप क्या है, इसके फायदे और नुकसान
लैपटॉप क्या है, इसके फायदे और नुकसान
नवीनतम तकनीक के विकास के कारण, इसने हमारे जीवन में बहुत सुधार किया है और वर्तमान पीढ़ी के लोग वास्तव में इस तकनीक का पूरा लाभ उठा रहे हैं। आज के समय में मनुष्य पूरी तरह से तकनीक पर निर्भर है, और इन नवीनतम उपलब्ध मशीनों और गैजेट्स के साथ अपना सारा काम पूरा कर रहा है। उदाहरण के लिए हम लंबी दूरी तय करने के लिए कारों, विमानों, ट्रेनों का उपयोग करते हैं। 

उसी समय, हम दूसरों के साथ संवाद करने के लिए मोबाइल फोन या टेलीफोन का उपयोग करते हैं। ऐसे में हम अपना ऑफिसियल काम या अपना कोई और काम करने के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं। जबकि डेस्कटॉप कंप्यूटर अब पुरानी होती जा रही है क्योंकि यह एक जगह रहता है और इसे एक जगह से दूसरी जगह ले जाने में दिक्कत होती है। इसी समस्या को हल करने के लिए लैपटॉप का आविष्कार किया गया था।

इन लैपटॉप और टैबलेट ने लोगों को पोर्टेबिलिटी और मोबिलिटी की सुविधाएं देना शुरू कर दिया ताकि लोगों को अब डेस्कटॉप पर ज्यादा निर्भर न रहना पड़े। साथ में वे कहीं भी और कभी भी लैपटॉप का उपयोग कर सकते हैं। इसलिए आज मैंने सोचा कि क्यों न आप लोगों के पास लैपटॉप है, इसका उपयोग कैसे किया जाता है और इसके क्या फायदे हैं, जैसे आपके इस लेख के माध्यम से कई जानकारी प्रदान करना। 

ताकि आपको भी इस प्रकार के कंप्यूटर के बारे में जानकारी मिल सके। तो बिना देर किए चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं कि यह लैपटॉप हिंदी में क्या है।

लैपटॉप क्या है (What is Laptop in Hindi)

यह लैपटॉप एक प्रकार का कंप्यूटर है, जिसे हम नोटबुक कंप्यूटर भी कहते हैं। यह एक बैटरी या एसी संचालित पर्सनल कंप्यूटर है जो आम तौर पर आकार में छोटा होता है (एक ब्रीफकेस से छोटा), आसानी से एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया जा सकता है, और आसानी से उपयोग किया जा सकता है। इसमें अस्थायी स्थान हैं जैसे हवाई जहाज, पुस्तकालय, अस्थायी कार्यालय और यहां तक ​​कि बैठकों में भी।

लैपटॉप का वजन आमतौर पर 3 किलो से कम होता है, इसकी मोटाई 2 से 3 इंच होती है। वैसे अब इसका आकार और मोटाई भी काफी कम होने लगी है। अब लैपटॉप कंप्यूटर के कई निर्माता बाजार में आ गए हैं जैसे IBM, Apple, Compaq, Dell, Toshiba, Acer, ASUS आदि।

लैपटॉप कंप्यूटरों की लागत की बात करें तो यह समान क्षमता और विशेषताओं वाले डेस्कटॉप कंप्यूटरों की तुलना में बहुत अधिक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि लैपटॉप को डिजाइन और निर्माण करना बहुत मुश्किल है।

लैपटॉप में इस्तेमाल होने वाले डिस्प्ले थिन स्क्रीन तकनीक का इस्तेमाल करते हैं। यह पतली फिल्म ट्रांजिस्टर या सक्रिय मैट्रिक्स स्क्रीन बहुत उज्ज्वल है और इसके विचार विभिन्न कोणों से बहुत अच्छे हैं, अगर हम इसकी तुलना एसटीएन या डुअल-स्कैन स्क्रीन से करें। टच पैड सहित, कीबोर्ड में माउस को एकीकृत करने के लिए लैपटॉप कई अलग-अलग तरीकों का उपयोग करते हैं। 

एक सीरियल पोर्ट भी है जो एक नियमित माउस को संलग्न करने की अनुमति देता है। एक पीसी कार्ड भी है जो लैपटॉप में मॉडेम या नेटवर्क इंटरफेस कार्ड जोड़ने के लिए एक डालने योग्य हार्डवेयर है। इसके अलावा सीडी-रोम और डीवीडी (डिजिटल वर्सेटाइल डिस्क) ड्राइव को भी बिल्ट-इन या अटैच किया जा सकता है।

लैपटॉप के घटक क्या हैं?

वैसे तो लैपटॉप के कई कंपोनेंट्स होते हैं, लेकिन यहां हम कुछ जरूरी कंपोनेंट्स के बारे में ही जानेंगे।

प्रोसेसर

यह सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU) लैपटॉप कंप्यूटर का कंट्रोलिंग कंपोनेंट है। प्रोसेसर की गति गीगाहर्ट्ज़ (GHz) में मापी जाती है। मल्टी-कोर प्रोसेसर में एक ही चिप में एक से अधिक कोर होते हैं। इन प्रोसेसर की स्पीड रेटिंग प्रत्येक कोर की गति को दर्शाती है। लैपटॉप के प्रोसेसर में जितनी ज्यादा स्पीड होगी और जितने ज्यादा कोर होंगे, उतने ही ज्यादा काम लैपटॉप एक साथ कर पाएगा।

हार्ड ड्राइव

यह हार्ड ड्राइव किसी भी लैपटॉप की मेमोरी स्टोरेज होती है। एक बड़े आकार की हार्ड ड्राइव उपयोगकर्ताओं को अधिक प्रोग्राम और बड़े प्रोग्राम इंस्टॉल करने की अनुमति देती है और यह अधिक फ़ाइलों को भी सहेजती है। आज के उच्च-प्रदर्शन वाले लैपटॉप कंप्यूटरों में हार्ड ड्राइव में बहुत अधिक संग्रहण स्थान होता है। जैसे 2TB, 4TB हार्ड ड्राइव। एक विशिष्ट हार्ड ड्राइव ५,४०० आरपीएम पर चलती है, लेकिन आप एक ७,२०० या १०,००० आरपीएम हार्ड ड्राइव का भी उपयोग कर सकते हैं यदि आपको प्रदर्शन को बढ़ावा देने वाली हार्ड ड्राइव की आवश्यकता है।

System Memory

रैंडम एक्सेस मेमोरी (RAM) एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटक है जो लैपटॉप को तेजी से चलाने में मदद करता है। अधिक RAM के साथ, एक कंप्यूटर एक साथ अधिक प्रोग्राम चला सकता है। जहां एक वेब ब्राउजिंग लैपटॉप केवल 2 जीबी रैम के साथ काम करेगा, वहीं एक एंटरटेनमेंट लैपटॉप के लिए 4 से 8 जीबी रैम की जरूरत होती है।

स्क्रीन

लैपटॉप स्क्रीन पतली लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले (एलसीडी) स्क्रीन का उपयोग करते हैं। आपको अपने लैपटॉप डिस्प्ले पर मूल रिज़ॉल्यूशन में सबसे स्पष्ट तस्वीर मिलती है, जो वही रिज़ॉल्यूशन है जिसमें छवि स्क्रीन के पिक्सेल की सटीक संख्या से मेल खाती है। लैपटॉप स्क्रीन का मूल रिज़ॉल्यूशन जितना अधिक होगा, तस्वीर की गुणवत्ता उतनी ही विस्तृत होगी।

ऑप्टिकल ड्राइव

लैपटॉप में ऑप्टिकल ड्राइव, इसकी डीवीडी या सीडी ड्राइव है। अधिकांश नए लैपटॉप में ये DVD+/- RW ड्राइव पहले से इंस्टॉल आते हैं, जिन्हें बर्नर भी कहा जाता है, इसका काम सभी फॉर्मेट में खाली डीवीडी और सीडी को पढ़ना और लिखना है। ये हमारी महत्वपूर्ण फाइलों या डेटा का बैकअप लेने के लिए बहुत आसान हैं। कुछ लैपटॉप में ऑप्टिकल ड्राइव भी नहीं होता है क्योंकि इससे उस लैपटॉप की जगह और वजन दोनों की बचत होती है। लेकिन आप इसे ज्यादातर में देख सकते हैं।

External Ports

बाहरी पोर्ट की संख्या एक लैपटॉप से ​​दूसरे लैपटॉप में भिन्न होती है। वैसे, सभी में कुछ यूएसबी पोर्ट हैं। यदि आप एक अलग मॉनिटर या प्रोजेक्टर कनेक्ट करना चाहते हैं तो आपको वीजीए पोर्ट की आवश्यकता हो सकती है। कुछ लैपटॉप में MMC और SD कार्ड के लिए अलग मेमोरी कार्ड स्लॉट भी होते हैं।

नेटवर्किंग

एक ईथरनेट पोर्ट के साथ आप एक ईथरनेट केबल के माध्यम से एक नेटवर्क से जुड़ सकते हैं। वायरलेस कनेक्शन, जो वायरलेस-जी या वायरलेस-एन सिग्नल का उपयोग करते हैं, अक्सर नए लैपटॉप के लिए सार्वभौमिक होते हैं।

वीडियो कार्ड

इन्हें ग्राफिक्स कार्ड भी कहा जाता है, वीडियो कार्ड आपके लैपटॉप डिस्प्ले में ग्राफिक्स उत्पन्न करते हैं। सभी लैपटॉप सीपीयू में एक ग्राफिक्स कंट्रोलर होता है, जो कंप्यूटर को बेसिक वीडियो और ग्राफिक्स प्रदर्शित करने की अनुमति देता है। एक वीडियो कार्ड एक अतिरिक्त उपकरण है जो प्रोसेसर से लोड लेता है, ताकि जब उपयोगकर्ता मूवी या गेम खेल रहे हों, तो यह लैपटॉप को सुचारू रूप से और तेज़ी से चलाने में मदद करता है। कुछ वीडियो कार्ड की अपनी सिस्टम मेमोरी होती है, जो इसे तेज़ बनाती है, और अधिक निर्बाध प्रदर्शन प्रदान करती है।

लैपटॉप और टैबलेट के बीच क्या संबंध है?

वैसे, लैपटॉप और टैबलेट के बीच कई संबंध हैं, चाहे इन दोनों में समानताएं हों या यहां तक ​​​​कि इन दोनों के बीच मतभेद भी हों।

आइए पहले समानताओं के बारे में जानते हैं

ये टैबलेट डिवाइस और लैपटॉप कंप्यूटर दोनों ही ऐसे कंप्यूटर हैं जो एक जैसे कई काम कर सकते हैं जैसे वेबसाइट ब्राउज़ करना, किसी को ई-मेल संदेश भेजना और पेपर लिखना।

वहीं, दोनों डिवाइस काफी पोर्टेबल हैं जिन्हें आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है।

ये दोनों डिवाइस बहुत ही सेंसिटिव डिवाइस हैं, इसलिए इन दोनों को कैरी करते समय काफी सावधानी बरतनी चाहिए।

आइए पहले असमानताओं के बारे में जानते हैं

लैपटॉप एक बहुत ही पोर्टेबल कंप्यूटर है। जिसका मतलब है कि इसमें आपको डेस्कटॉप के सारे फीचर मिल सकते हैं, लेकिन इसका साइज छोटा होता है, जिससे आप इसे कहीं भी ले जा सकते हैं। वहीं, एक टैबलेट कंप्यूटर भी बहुत छोटा होता है, लेकिन यह अधिक और बेहतर पोर्टेबिलिटी प्रदान करता है, जिसमें कम सुविधाएं और विकल्प होते हैं। इसमें टच स्क्रीन डिस्प्ले, इसकी बैटरी, डिस्प्ले और सर्किटरी सभी एक ही यूनिट में होते हैं।

जबकि लैपटॉप थोड़े मोटे और भारी होते हैं, टैबलेट बहुत मोटे या भारी नहीं होते हैं। साथ में वे लैपटॉप की तुलना में अधिक पोर्टेबल हैं।

जहां लैपटॉप में फिजिकल कीबोर्ड होता है, वहीं टैबलेट में फिजिकल कीबोर्ड नहीं होता है। इसमें केवल एक टच स्क्रीन है जिसमें आप कीबोर्ड के सभी कार्य कर सकते हैं। जबकि लैपटॉप में माउस की जगह ट्रैकपैड होता है, जबकि टैबलेट में ऐसा कोई टचपैड नहीं होता है। सब कुछ स्क्रीन से नियंत्रित किया जा सकता है।

अगर बैटरी की बात करें तो लैपटॉप की बैटरी टैबलेट की तुलना में तेजी से खत्म हो जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि लैपटॉप में अधिक रैम होने के साथ-साथ कई भारी कार्य भी कर सकते हैं, जिसमें अधिक बैटरी की आवश्यकता होती है, जबकि टैबलेट में इतने बड़े ऑपरेशन नहीं होते हैं, जिसके कारण बैटरी का अधिक उपयोग नहीं होता है।

लैपटॉप में सीडी और डीवीडी (ऑप्टिकल ड्राइव) होते हैं, जबकि ये विकल्प टैबलेट में उपलब्ध नहीं होते हैं।

लैपटॉप में हार्डवेयर को अपग्रेड किया जा सकता है, जैसे रैम, हार्ड ड्राइव आदि। जबकि टैबलेट में हार्डवेयर को अपग्रेड करने की कोई सुविधा नहीं है।

अगर कीमतों की बात करें तो लैपटॉप टैबलेट से ज्यादा महंगे होते हैं।

लैपटॉप के फायदे

1. पोर्टेबल डिवाइस: वे बहुत पोर्टेबल हैं। जिससे इन्हें आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है।

2. इसमें लंबी बैटरी लाइफ होती है: लैपटॉप की बैटरी लाइफ बहुत लंबी होती है, जिसके कारण इसे बिना बिजली की आपूर्ति के भी लंबे समय तक इस्तेमाल किया जा सकता है। यह विशेष रूप से यात्रा के दौरान बहुत काम आता है। साथ ही एक सामान्य लैपटॉप की बैटरी लाइफ 3 घंटे की होती है।

3. छोटे साइज के होते हैं: अगर हम इसकी तुलना डेस्कटॉप से ​​करें तो इन लैपटॉप्स का साइज छोटा होता है, लेकिन इसमें भी हम जो भी काम डेस्कटॉप में करते हैं वह सब किया जा सकता है. अपने छोटे आकार के कारण इसे कार्यालयों, स्कूलों, कॉलेजों में आसानी से ले जाया जा सकता है।

4. कोई कीबोर्ड या माउस आवश्यक नहीं: चूंकि इसमें एक इनबिल्ट कीपैड है जिसमें आप माउस के रूप में काम कर सकते हैं। एक अंतर्निहित कीबोर्ड भी है। इसके लिए बाहरी माउस या कीबोर्ड की आवश्यकता नहीं होती है।

5. इंटरनल स्पीकर: इसमें इंटरनल स्पीकर भी होते हैं। ताकि आपको एक्सटर्नल स्पीकर को कहीं भी ले जाने की जरूरत न पड़े।

6. वाईफ़ाई और ब्लूटूथ: इसमें वाईफाई और ब्लूटूथ की सुविधा भी है, जिसके कारण आप आसानी से इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं और फ़ाइलों को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में स्थानांतरित कर सकते हैं।

7. इसमें बिल्ट इन वेब कैमरा है: यूजर्स को डेस्कटॉप में एक्सटर्नल वेबकैम की जरूरत होती है। वहीं, लैपटॉप में पहले से ही इंटीग्रेटेड वेबकैम है, इसलिए हमें बाहरी कैमरे की जरूरत नहीं है। इससे हम आसानी से वीडियो कॉलिंग कर सकते हैं।

8. कम बिजली की आवश्यकता: अगर हम इसकी तुलना डेस्कटॉप से ​​करें तो लैपटॉप में बिजली की आवश्यकता कम होती है। इससे आपका बिजली बिल कम हो जाएगा।

9. Entertainment: इसमें सभी डिवाइस पहले से ही बने होते हैं, इसलिए चाहे वह शिक्षा हो, संगीत हो, मूवी हो या फिर पिक्चर्स, आप हर चीज के लिए लैपटॉप का इस्तेमाल कर सकते हैं, वो भी आसानी से। इसका उपयोग मनोरंजक गैजेट्स के अनुसार किया जाता है।

लैपटॉप के नुकसान

आइए जानते हैं लैपटॉप के नुकसान के बारे में।

1. महँगा: लैपटॉप अन्य कंप्यूटरों की तुलना में अधिक महंगे होते हैं। क्योंकि आप कम कीमत में समान कॉन्फ़िगरेशन का डेस्कटॉप आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

2. यह भी हमारे स्वास्थ्य के लिए सही नहीं है: जब हमारे स्वास्थ्य की बात आती है, तो सब कुछ बाद में आता है। लैपटॉप के ज्यादा इस्तेमाल से हमारी सेहत पर बुरा असर पड़ता है, जैसे हमारी आंखों की रोशनी, हाथ, पैर, रीढ़ की हड्डी आदि में। साथ ही हमें कई तरह की बीमारियां होने की भी आशंका रहती है।

3. रिपेयर करने में दिक्कत : चूंकि सभी चीजें लैपटॉप के अंदर ही इंस्टाल होती हैं, इसलिए डेस्कटॉप की तुलना में इसे रिपेयर करना ज्यादा आसान नहीं होता है। इसके अलावा, इसके घटक भी अधिक महंगे हैं। इसके अलावा रिपेयरिंग में दिक्कत के कारण कंप्यूटर एक्सपर्ट आपसे ज्यादा चार्ज कर सकता है।

4. इसे आसानी से चुराया जा सकता है: चूंकि ये इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बहुत पोर्टेबल होते हैं, इसलिए इन्हें बहुत आसानी से चुराया जा सकता है। जबकि पोर्टेबिलिटी भी एक फायदा है, यह इसकी सुरक्षा के लिए एक बड़ा नुकसान भी है।

5. अनुकूलन और उन्नयन: इन उपकरणों को अनुकूलित करना और उनके हार्डवेयर को अपग्रेड करना बहुत मुश्किल है। इसके लिए हमें किसी अन्य कंप्यूटर विशेषज्ञ की आवश्यकता पड़ सकती है।

6. उनकी तकनीक बहुत जल्द पुरानी हो जाती है: जैसा कि हम जानते हैं कि तकनीक दिन-ब-दिन उन्नत होती जा रही है। ऐसे में अगर आप आज नया लैपटॉप खरीदते हैं तो आने वाले कुछ महीनों में उसका नया अपग्रेडेड वर्जन बाजार में उपलब्ध होगा. साथ ही आप जो लैपटॉप खरीदेंगे वह सस्ता हो जाएगा और उसकी तकनीक भी पुरानी हो जाएगी।

7. यह व्याकुलता का केंद्र बिंदु बन सकता है: ऐसा कई बार देखा गया है कि छात्र पढ़ाई के लिए लैपटॉप का कम और मनोरंजन के लिए ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। जैसे इसमें वे गाने सुनते हैं, फिल्में देखते हैं आदि। इससे उनका कीमती समय बर्बाद होता है। और जिससे उनकी पढ़ाई में काम के नंबर आ जाते हैं।

8. इसके खराब होने की संभावना बहुत अधिक होती है: चूंकि यह एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है, इसलिए अगर इसमें कोई जूस, पानी, चाय, सिरप आदि गलती से गिर जाए तो यह लैपटॉप को तुरंत नुकसान पहुंचा सकता है। साथ ही इसे एक जगह से दूसरी जगह ले जाने में भी सावधानी बरतनी पड़ती है, नहीं तो यह इस डिवाइस को नुकसान भी पहुंचा सकता है।

इन्हें भी पढ़ें :-

Conclusion :-

मुझे उम्मीद है कि आपको मेरा यह लेख What is Laptop (What is Laptop in Hindi) पसंद आया होगा। अगर आपके लिए यह लेख जरा भी ज्ञानवर्धक सिद्ध होता है तो कृपया इसे शेयर करें । 

Post a Comment

Please comment

Previous Post Next Post