लैपटॉप का आविष्कार किसने किया था और कब?

 नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारे इस नए पोस्ट मेँ आज हम आपको बताएंगे कि आखिर लैपटॉप का आविष्कार किसने किया था और कब? दोस्तों जैसा कि आप सब जानते है कि आज का युग एक आधुनिक युग है और यहाँ अब हर एक छोटे से छोटा काम केवल और केवल कंप्युटर तथा अनलाईन माध्यमों से होने लगा हैं । 

ऐसे मे शिक्षा का क्षेत्र क्यों छूटा रहे! आजकल तो शिक्षा के क्षेत्र मे भी कंप्युटर का उपयोग होने लगा हैं , लोग केवल कंप्युटर के बारे मे जानकारी हासिल करने के लिए कॉलेज या इंस्टिट्यूट जॉइन करते है । आजकल सारे पढ़ाई के काम काज भी कंप्युटर अथवा लैपटॉप से होने लगा है । 

लैपटॉप का अविष्कार किसने किया था?
लैपटॉप का अविष्कार किसने किया था?


तो ऐसे मे मेन बात यह है दोस्तों कि अब जब सब काम अनलाइन या कंप्युटर से होने लगा है तो लोगों तथा पढ़ने वाले बच्चों को कंप्युटर कि आवश्यकता पड़ती है । 

तो लोग क्या करते है कि कोंपटेर कि जगह लैपटॉप को ज्यादा बेहतर मानते हैं क्योंकि यह यूजर फ़्रेंडली भी होता हैं और इसकि कीमत भी काम होती है। और  लैपटॉप को ज्यादातर पढ़ाई करने वाले वाले लोगों के लिए बहटर मन जाता है । 

    ऐसे मे सभी लैपटॉप यूजर के मन मे काभी न काभी एक सवाल जरूर आता हैं कि आखिर लैपटॉप का आविष्कार किसने किया था और कब ? और यह सवाल प्रासंगिक भी है क्योंकि आप जिस चीज मे रोज घंटों काम करते है उसके आविष्कारक के बारे मे जानने कि बात तो आपके चंचल मन मेँ जरूर आएगी । 

     तो दोस्तों अगर आप सच मे नहीं जानते कि  लैपटॉप का आविष्कार किसने किया था और कब तो यह पोस्ट आप पूरा पढिए इसमे हम आपको लैपटॉप कि पूरी इतिहास बताएंगे कि लैपटॉप का आविष्कार किसने किया था और कब?

    लैपटॉप क्या है ?

    यह लैपटॉप एक प्रकार का कंप्यूटर है, जिसे हम नोटबुक कंप्यूटर भी कहते हैं। यह एक बैटरी या एसी संचालित पर्सनल कंप्यूटर है जो आम तौर पर आकार में छोटा होता है (एक ब्रीफकेस से छोटा), आसानी से एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया जा सकता है, और आसानी से उपयोग किया जा सकता है। इसमें अस्थायी स्थान हैं जैसे हवाई जहाज, पुस्तकालय, अस्थायी कार्यालय और यहां तक ​​कि बैठकों में भी।

    लैपटॉप का वजन आमतौर पर 3 किलो से कम होता है, इसकी मोटाई 2 से 3 इंच होती है। वैसे अब इसका आकार और मोटाई भी काफी कम होने लगी है। अब लैपटॉप कंप्यूटर के कई निर्माता बाजार में आ गए हैं जैसे IBM, Apple, Compaq, Dell, Toshiba, Acer, ASUS आदि।

    लैपटॉप कंप्यूटरों की लागत की बात करें तो यह समान क्षमताओं और विशेषताओं वाले डेस्कटॉप कंप्यूटरों की तुलना में बहुत अधिक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि लैपटॉप को डिजाइन और निर्माण करना बहुत मुश्किल है।

    लैपटॉप में इस्तेमाल होने वाले डिस्प्ले थिन-स्क्रीन तकनीक का इस्तेमाल करते हैं। यह पतली फिल्म ट्रांजिस्टर या सक्रिय मैट्रिक्स स्क्रीन बहुत उज्ज्वल है और इसके विचार विभिन्न कोणों से बहुत अच्छे हैं, अगर हम इसकी तुलना एसटीएन या डुअल-स्कैन स्क्रीन से करें। टच पैड सहित, कीबोर्ड में माउस को एकीकृत करने के लिए लैपटॉप कई अलग-अलग तरीकों का उपयोग करते हैं। एक सीरियल पोर्ट भी है जो एक नियमित माउस को संलग्न करने की अनुमति देता है। एक पीसी कार्ड भी है जो लैपटॉप में मॉडेम या नेटवर्क इंटरफेस कार्ड जोड़ने के लिए एक डालने योग्य हार्डवेयर है। इसके अलावा सीडी-रोम और डीवीडी (डिजिटल वर्सेटाइल डिस्क) ड्राइव को भी बिल्ट-इन या अटैच किया जा सकता है।

    लैपटॉप का अविष्कार किसने किया था?

    ओसबोर्न जिसने वर्ष 1981 में वास्तव में पहला पोर्टेबल कंप्यूटर या लैपटॉप बनाया जिसे आज लैपटॉप ही कहा जाता है ? इसका आविष्कार किया । 

    हालांकि इसका आकार आज के लैपटॉप से काफी बड़ा था और इसकी कार्यक्षमता सीमित थी, इसका निर्माण ओसबोर्न द्वारा किया गया था।

    जैसे ही इस लैपटॉप को बाजार में उतारा गया, इसने धूम मचा दी क्योंकि इसमें कुछ पूर्व-स्थापित सॉफ़्टवेयर के साथ एक छोटी स्क्रीन भी प्रदान की गई थी। पैसे वाले लोगों ने इस लैपटॉप को 1795 डॉलर की कीमत के बावजूद एक लक्जरी आइटम के रूप में खरीदा।

    इस लैपटॉप की सफलता के बाद आने वाले वर्षों में अन्य ब्रांड्स ने भी अपने कंप्यूटर लॉन्च किए।

    साल 1988 में IBM ने 5155 नाम का पर्सनल कंप्यूटर लॉन्च किया। उसके बाद Compass ने इसी क्रम में एक नया इनोवेशन लाया और वेगा 3 ग्राफिक्स के साथ कॉम्पैक SLT/286 नाम का लैपटॉप मार्केट में उतारा।

    और फिर अन्य ब्रांड भी इस लैपटॉप की सफलता को देखकर लैपटॉप बनाने लगे और आज हम बाजार में अलग-अलग कंपनी के लैपटॉप देखते हैं।

    लैपटॉप के आविष्कार का इतिहास? 

    पहला लैपटॉप डॉ. ओसबोर्न द्वारा जून 1981 में वेस्ट कोस्ट कंप्यूटर फेयर में प्रस्तुत किया गया था। ओसबोर्न १ कंप्यूटर, जिसका वजन उस समय २४ पाउंड था, ५ इंच की डिस्प्ले स्क्रीन के साथ आया और उपयोगकर्ताओं को विभिन्न प्रकार के उपयोगी सॉफ्टवेयर की पेशकश की। लैपटॉप इस लैपटॉप को एक स्प्रेडशीट, वर्ड प्रोसेसिंग, प्रोग्रामिंग भाषाओं तक पहुंच और एक इंटरनेट डेटाबेस के साथ पेश किया गया था।

    डॉ ओसबोर्न का आविष्कार रातोंरात सफल रहा और अन्य कंपनियों को उनके नक्शेकदम पर चलने के लिए प्रेरित किया गया। लोग ओसबोर्न 1 को केवल 1800 डॉलर में खरीद सकते थे। जो मिलते-जुलते विकल्प वाले किसी भी अन्य कंप्यूटर की कीमत से लगभग आधी हो रही थी। ओसबोर्न कंपनी ने 1983 में 100,000 से अधिक ऑर्डर प्राप्त किए और 25 महीनों के भीतर ऑर्डर बैकलॉग का दावा किया।

    लेकिन दुर्भाग्य से डॉ. ओसबोर्न अपनी ही रचना की सफलता के शिकार हो गए। जब उसने एक प्रारंभिक घोषणा की कि वह एक नए मॉडल का निर्माण कर रहा है, तो कई लोगों ने नया कंप्यूटर खरीदने के अपने ऑस्बोर्न 1 ऑर्डर को रद्द कर दिया। घटनाओं के इस मोड़ ने कंपनी को बिना बिके इन्वेंट्री के साथ छोड़ दिया। जिसके कारण 1983 में कंपनी दिवालिया हो गई। कंप्यूटर के तेजी से उत्थान और पतन के साथ कंपनी सिलिकॉन वैली की अर्थव्यवस्था का प्रतीक बन गई। एक नया तकनीकी चमत्कार पैदा करते हुए, उनकी कंपनी आईबीएम संगतता और नए प्रोसेसर के साथ तालमेल रखने में असमर्थ थी।

    लैपटॉप के फायदे क्या है ? 

    • पोर्टेबल डिवाइस: वे बहुत पोर्टेबल हैं। जिससे इन्हें आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है।
    • इसमें लंबी बैटरी लाइफ होती है: लैपटॉप की बैटरी लाइफ बहुत लंबी होती है, जिसके कारण इसे बिना बिजली की आपूर्ति के भी लंबे समय तक इस्तेमाल किया जा सकता है। यह विशेष रूप से यात्रा के दौरान बहुत काम आता है। साथ ही एक सामान्य लैपटॉप की बैटरी लाइफ 3 घंटे की होती है।
    • छोटे साइज के होते हैं: अगर हम इसकी तुलना डेस्कटॉप से करें तो इन लैपटॉप्स का साइज छोटा होता है, लेकिन इसमें भी हम जो भी काम डेस्कटॉप में करते हैं वह सब किया जा सकता है. अपने छोटे आकार के कारण इसे कार्यालयों, स्कूलों, कॉलेजों में आसानी से ले जाया जा सकता है।
    • कोई कीबोर्ड या माउस आवश्यक नहीं: चूंकि इसमें एक इनबिल्ट कीपैड है जिसमें आप माउस के रूप में काम कर सकते हैं। एक अंतर्निहित कीबोर्ड भी है। इसके लिए बाहरी माउस या कीबोर्ड की आवश्यकता नहीं होती है।
    • इंटरनल स्पीकर: इसमें इंटरनल स्पीकर भी होते हैं। ताकि आपको एक्सटर्नल स्पीकर को कहीं भी ले जाने की जरूरत न पड़े।

    लैपटॉप के नुकसान क्या है ?

    • महँगा: लैपटॉप अन्य कंप्यूटरों की तुलना में अधिक महंगे होते हैं। क्योंकि आप कम कीमत में समान कॉन्फ़िगरेशन का डेस्कटॉप आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।
    • यह भी हमारे स्वास्थ्य के लिए सही नहीं है: जब हमारे स्वास्थ्य की बात आती है, तो सब कुछ बाद में आता है। लैपटॉप के ज्यादा इस्तेमाल से हमारी सेहत पर बुरा असर पड़ता है, जैसे हमारी आंखों की रोशनी, हाथ, पैर, रीढ़ की हड्डी आदि में। साथ ही हमें कई तरह की बीमारियां होने की भी आशंका रहती है।
    • रिपेयर करने में दिक्कत : चूंकि सभी चीजें लैपटॉप के अंदर ही इंस्टाल होती हैं, इसलिए डेस्कटॉप की तुलना में इसे रिपेयर करना ज्यादा आसान नहीं होता है। इसके अलावा, इसके घटक भी अधिक महंगे हैं। इसके अलावा रिपेयरिंग में दिक्कत के कारण कंप्यूटर एक्सपर्ट आपसे ज्यादा चार्ज कर सकता है।
    •  इसे आसानी से चुराया जा सकता है: चूंकि ये इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बहुत पोर्टेबल होते हैं, इसलिए इन्हें बहुत आसानी से चुराया जा सकता है। जबकि पोर्टेबिलिटी भी एक फायदा है, यह इसकी सुरक्षा के लिए एक बड़ा नुकसान भी है।
    • अनुकूलन और उन्नयन: इन उपकरणों को अनुकूलित करना और उनके हार्डवेयर को अपग्रेड करना बहुत मुश्किल है। इसके लिए हमें किसी अन्य कंप्यूटर विशेषज्ञ की आवश्यकता पड़ सकती है।

     Conclusion:-

    तो दोस्तों आज कि इस पोस्ट मे मैंने आपको लैपटॉप के बारे मे पूरी जानकारी दे दी । मैंने आपको बताया कि लैपटॉप का आविष्कार किसने किया था और कब? अगर आप मेरे द्वारा दिए जाने वाले जानकारी से संतुष्ट है तो कृपया इसे शेयर करें । 

    अगर इसके बाद भी आपका कोई सवाल है तो कृपया उसे शेयर करें । 

    Post a Comment

    Please comment

    Previous Post Next Post