कलम का आविष्कार किसने किया?

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारे इस में पोस्ट में आज हम आपको बताएंगे कि आखिर कलम का आविष्कार किसने किया आप लोग अपने दैनिक जीवन में एक न एक बार कलम का उपयोग तो करते ही होंगे लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस का आविष्कार किसने किया। 

कलम का आविष्कार किसने किया?
कलम का आविष्कार किसने किया?

जी हां दोस्तों अगर आप नहीं जानते कि कलम का आविष्कार किसने किया तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ें हम इस पोस्ट में आपको कलम का पूरा इतिहास बता देंगे। इस पोस्ट को लास्ट तक पढ़ते तक आप पूरी तरह समझ जाएंगे कि आखिर कलम का आविष्कार किसने किया और क्यों किया। 

    कलम का आविष्कार किसने किया?

    जब मानव ने सभ्यता की दुनिया में प्रवेश किया, तो उसे लिखने के लिए कलम की आवश्यकता महसूस हुई। उस समय ऐसा कोई पेन उपलब्ध नहीं था। चलो कलम के अतीत की ओर चलते हैं।

    लाखों साल पहले जब इंसान बंदरों की तरह जंगल में घूमते थे। फिर वह पेड़ की मोटी शाखा को छीलकर अपने नाखूनों से कुछ आकृतियाँ बनाता, इससे उनका मनोरंजन भी होता और उनका बौद्धिक विकास भी होता।

    वैसे कलम बनाने का श्रेय मिस्र देश को ही जाता है। वहां पहले तांबे का एक पतला, तेज नुकीला टुकड़ा एक लंबी खोखली पतली लकड़ी के सिरे में डाला गया। इस कलम को फूलों के रस और रंग में डुबोकर जमीन और पत्थर पर तिरछी रेखाएँ खींची गईं।

    कलम के आविष्कार का इतिहास?

    मिस्र की धार्मिक पौराणिक कथाओं के अनुसार, आदिम मनुष्य शुरुआत में छेनी के हथौड़े की मदद से चट्टानी गुफाओं पर तरह-तरह के चित्र बनाता था और उन्हें देखकर खूब हंसता था। उस समय के अनेक मंदबुद्धि आदिम मनुष्य इन चित्रों को देवताओं का रूप मानकर अपने हाथों और सिरों से नतमस्तक होते थे। मनुष्य में जैसे-जैसे बुद्धि का विकास हुआ वैसे-वैसे कलम में भी कुछ परिवर्तन होने लगे। बहुत से बुद्धिमानों ने एक पेड़ की एक शाखा को जानवरों के खून में डुबो दिया और चमड़े पर लिखना शुरू कर दिया।

    संत-महात्माओं ने मोर पंख से कलम बनाई और उसे फूलों के रंग में डुबोया और विभिन्न ग्रंथों की रचना की। करीब पांच हजार साल पहले यूनान में हाथी दांत, हड्डी, धातु आदि की सहायता से कलमों का निर्माण शुरू हुआ था। उस समय केवल शिक्षित लोगों को ही कलम रखने का अधिकार था। 

    उस समय कलम को धार्मिक दृष्टि से भी देखा जाता था। जब किसी की कलम टूट जाती थी, तो उसके सम्मान के साथ अंतिम संस्कार का जुलूस निकाला जाता था। कलम का अंतिम संस्कार लोग अपने धर्म के अनुसार ही करते थे। एक दशक पहले मिस्र में खुदाई के दौरान कुछ ऐसे ग्रंथ मिले थे, जिन पर फूलों की पीली स्याही से धर्म के नियम लिखे हुए थे। फूलों की स्याही से लिखे गए ये ग्रंथ आज भी ताजे फूलों की तरह महकते हैं।

    उनकी गंध का रहस्य क्या है? यह आज तक पता नहीं चल सका। अठारहवीं शताब्दी के मध्य में अमेरिका में फाउंटेन पेन का निर्माण किया गया था। तभी से कलम की दुनिया में दिन-ब-दिन नई-नई खोजें हो रही हैं और आज की दुनिया तरह-तरह की कलमों से भरी पड़ी है।

    इन्हें भी पढ़ें :-

    Conclusion:-

    दोस्तों आज कि इस पोस्ट में हमने आपको बताया कि आखिर कलम का आविष्कार किसने किया था अगर हमसे कोई जानकारी देनी छूट गई हो तो आप कमेंट सेक्शन में हम से पूछ सकते हैं अगर आपको हमारी जानकारी कलम का आविष्कार किसने किया यह ज्ञानवर्धक और सटीक लगती है तो कृपया इसे अपने दोस्तों तक पहुंचाएं और दूसरे लोगों को भी ऐसी रोचक जानकारियां जानने का मौका दें कृपया इसे अपने व्हाट्सएप फेसबुक और ट्विटर पर शेयर करें। 

    Post a Comment

    Please comment

    Previous Post Next Post