रडार का आविष्कार किसने किया था ? Radar ka Avishkar kisne kiya tha

नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका हमारे इस पोस्ट मे आज हम आपको बताएंगे कि रडार का आविष्कार किसने किया था दोस्तों अपने रडार सिस्टम के बारे मे तो कहीं न कहीं सुना ही होगा। किसी भी देश की सुरक्षा व्यवस्था का 'रडार' आजकल एक महत्वपूर्ण अंग बन गया है, आधुनिकता के इस दौर मेँ यह दुश्मन को दूर से ही पहचान लेने वाला यंत्र है। 

रडार का आविष्कार किसने किया था
रडार का आविष्कार किसने किया था 

लेकिन क्या आप जानते है कि Radar ka Avishkar kisne kiya tha? आखिर रडार क्या है ? इसका इतिहास क्या है ? ऐसे ही कई सवाल आपके मन मे उठते होंगे जिनका आज हम उत्तर ढूंढ कर लाए है । अगर आप  रडार के बारे मे पूरी तरह संक्षिप्त मे जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा पढ़िएगा। 

रडार क्या है ? 

रडार यानि रेडियो डिटेक्शन एंड रेंज एक ऐसी मशीन है जिसमें रेडियो तरंगों की मदद से दूर की वस्तुओं की स्थिति का पता लगाया जाता है। कोहरा हो या कोहरा, बारिश हो, बर्फ हो, धुआं हो या अंधेरा हो, रडार को अपना काम करने में कोई दिक्कत नहीं होती है। उसे स्थिति का स्पष्ट अंदाजा होगा

    1886 में, रेडियो तरंगों के आविष्कारक हेनरिक हेटर्स ने कहा कि अगर लहरें ठोस वस्तुओं से टकराती हैं, तो उनकी स्थिति बदल जाएगी। इन परिवर्तनों के कारण 1925  में दूरी का पता चला और 1930  तक, रडार का सही उपयोग किया गया। लेकिन इसका सामान्य उपयोग द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ही हो सका।

    रेडियो तरंगें राडार द्वारा भेजी जाती हैं और जब ये तरंगें किसी वस्तु से टकराकर वापस उछलती हैं, तो उनके लौटने तक का समय मापा जाता है। रेडियो तरंगे 186000  मील प्रति सेकण्ड की गति से चलती है।समय का पता लगते ही उस वस्तु की दूरी का तुरंत पता चल जाता है। राडार में लगे एंटीना से भी उस वस्तु की सही स्थिति का पता लगाया जाता है।

    रडार में एक ट्रांसमीटर होता है जो रेडियो तरंगों को भेजता है और एक रिसीवर जो उन्हें वापस आने पर प्राप्त करता है। लहरों के आने और जाने का समय और उसके आधार पर दूरी का पता मशीनों की मदद से अपने आप लग जाता है। सही दिशा खोजने के लिए रडार के एंटीना को लगातार घुमाया जाता है। जैसे ही एंटेना सीधे किसी चीज के सामने होता है, स्थिति साफ हो जाती है।

    रडार की वजह से युद्ध में अक्सर हमला करना आसान नहीं रह जाता है। इसके जरिए रॉकेट, जहाज, विमान के आने की जानकारी पहले ही मिल जाती है। इसी तरह बमवर्षक के चालक को भी राडार की सहायता से धुंआ या कोहरे के समय बम गिराने की सही जगह का पता चल जाता है। राडार का प्रयोग शांति काल में जहाजों, वायुयानों आदि को चलाने के लिए किया जाता है। इससे पर्वतों तथा अन्य बाधाओं का पता चल जाता है। मौसम विशेषज्ञों के लिए भी यह यंत्र बहुत उपयोगी है।

    रडार का आविष्कार किसने किया था 

    राडार का आविष्कार रॉबर्ट वाटरसन वाट ने किया था। रडार (रेडियो डिटेक्शन एंड रेंजिंग) एक उपकरण है जिसका उपयोग गतिमान लक्ष्यों के अनुसंधान के लिए किया जाता है। 
    रडार का एक विशेष वर्ग एक शक्तिशाली रेडियो ट्रांसमीटर से लैस होता है, जो अपनी रेडियो तरंगों से लक्ष्य का पता लगाता है और इसके अलावा, एक रेडियो रिसीवर की मदद से यह परावर्तित तरंगों की खोज भी करता है। रक्षा के क्षेत्र में मुख्य रूप से तीन रडार सिस्टम हैं। इन विधियों के आधार पर राडार को भूमि आधारित, वायु रक्षा प्रणाली, युद्ध क्षेत्र और भूमि सर्वेक्षण रडार, नौवहन सर्वेक्षण रडार आदि श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है।

    रडार का आविष्कार इतिहास? 

    1886 ई. में, जर्मन वैज्ञानिक रूडोल्फ हर्ट्ज़, विद्युत चुम्बकीय तरंगों के खोजकर्ता, ने पाया कि विद्युत चुम्बकीय तरंगें एक ठोस वस्तु से टकराकर परावर्तित होती हैं, जिससे रेडियो में ट्रांसमीटरों से संदेश प्राप्त करने के लिए विद्युत चुम्बकीय तरंगों का उपयोग किया जाता है। है।

    दो अन्य जर्मन वैज्ञानिकों ने वर्ष 1904 में रेडियो तरंगों के संभावित उपयोग का पेटेंट कराया। इसके अनुसार, रेडियो तरंगों द्वारा समुद्री जहाजों के मार्ग में आने वाली बाधाओं का पता लगाया जा सकता था।1922 ई. में, संयुक्त राज्य अमेरिका के दो वैज्ञानिकों - टेलर और यंग ने 'पोटोमैक' नदी में स्थित एक जहाज पर अपने प्रयोगों में पाया कि रेडियो तरंगों का उपयोग दुश्मन के जहाजों की स्थिति का पता लगाने के लिए किया जा सकता है।

    रेडियो तरंगों के परावर्तन से संबंधित पहला प्रयोग ब्रिटिश वैज्ञानिक एपलटन ने वर्ष 1924 ई. में किया था। उन्होंने यह परीक्षण करने के लिए प्रयोग किए कि आकाश में वायु का स्तर सामान्य है या विद्युत ऋणात्मक है। उन दिनों जब ये शुरुआती शोध हो रहे थे, किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी कि एक दिन ब्रिटिश वैज्ञानिक इन प्रयोगों के आधार पर एक रडार जैसा उपकरण तैयार करके द्वितीय विश्व युद्ध में ब्रिटेन की रक्षा करने में सक्षम होंगे।

    1925 में, ग्रेगरी ब्रेइट और मर्ले 'ए' ट्यूब ने पल्स-टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए पृथ्वी से आयनमंडल की दूरी निर्धारित की। इस पल्स तकनीक में, रेडियो तरंगों को अलग-अलग आवृत्तियों पर एक सेकंड के अंशों में आकाश में प्रेषित किया जाता था और वापसी का समय निर्धारित किया जाता था।इस तकनीक ने रडार के आविष्कार को संभव बनाया और रॉबर्ट एलेक्जेंडर वाटसन वाट ने भी इस तकनीक का इस्तेमाल किया।

    उस समय की राजनीतिक और सामाजिक परिस्थितियों ने रडार के आविष्कार और विकास में बहुत योगदान दिया। उन दिनों जर्मनी में हिटलर की तानाशाही थी। हिटलर की महत्वाकांक्षा एक दिन पूरी दुनिया पर अपना आधिपत्य स्थापित करने की थी। दूसरी ओर जर्मनी और इंग्लैंड के बीच युद्ध की संभावना दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही थी। इनके अतिरिक्त युद्ध में वायुयानों के प्रयोग में उत्तरोत्तर वृद्धि होने की सम्भावना थी। समस्या दूर से उन विमानों की स्थिति का पता लगाने की थी।

    उन दिनों ध्वनी दर्पणों का प्रयोग तलों की स्थिति ज्ञात करने के लिए किया जाता था। उन ध्वनि-दर्पणों ने विमानों की आवाज़ को प्रतिबिंबित किया और उन्हें माइक्रोफ़ोन में खिलाया। उन ध्वनियों को एम्पलीफायर द्वारा तेज किया गया और लाउडस्पीकर से सुना गया। इसे वायुयान के आने का पता चल जाता था, लेकिन यह तरीका तभी काम आता था जब वायुयान सीधे ध्वनि-दर्पण की ओर आ जाता था और वायुयान के मार्ग में किसी अन्य प्रकार की ध्वनि नहीं होती थी।

    यह भी स्पष्ट है कि तेज और ऊंची उड़ान भरने वाले विमानों के लिए वह तरीका उपयोगी नहीं था। वायु सेना उन ध्वनि-दर्पणों के अनुपयोगी होने से बहुत चिंतित थी। उस चिंता के साथ, प्रोफेसर एच.ई. विम्परिस ने रॉबर्ट वाटसन वाट को सूचित किया और उनसे एक ऐसी विधि खोजने का अनुरोध किया जिससे विमान की स्थिति का सटीक अनुमान लगाया जा सके।

    हालांकि रॉबर्ट वॉटसन युद्ध-विरोधी थे, लेकिन उस समय की परिस्थितियों ने उन्हें युद्ध के लिए अपने ज्ञान का उपयोग करने के लिए मजबूर किया। उन्हें डर था कि शायद जर्मन वैज्ञानिक भी रडार बनाने के लिए प्रतिबद्ध न हों। इसलिए उन्होंने अपनी पढ़ाई के आधार पर रॉयल एयर फ़ोर्स को एक गुप्त रिपोर्ट भेजी, जिसमें राडार की निर्माण योजना शामिल थी।

    २६ फरवरी १९३५ को दोपहर के समय, तीन आदमी इंग्लैंड के नॉर्थम्प्टन शायर के एक गाँव वेडेन के मैदान में एक खड़ी कार में सवार हुए। वे तीन व्यक्ति वैज्ञानिक सर रॉबर्ट अलेक्जेंडर वाटसन, वायु मंत्रालय के विज्ञान विशेषज्ञ डॉ. पी. रोवे और ए.एफ. विल्किंस (रॉबर्ट वाटसन वाट्स के एक सहयोगी) थे। उस समय वे तीनों एक बहुत ही महत्वपूर्ण निर्णय के लिए एकत्रित हुए थे। करीब दो हफ्ते पहले रॉबर्ट वाटसन वाट ने वायु मंत्रालय को एक गुप्त रिपोर्ट भेजी थी।उस ऐतिहासिक रिपोर्ट में वैज्ञानिक रॉबर्ट वाटसन वाट ने भविष्यवाणी की थी कि उड़ने वाले विमानों की स्थिति रेडियो तरंगों की मदद से जानी जा सकती है। वह रिपोर्ट वास्तव में रडार का मूल स्रोत थी।

    रॉबर्ट वाटसन वाट के अनुरोध पर विल्किंस ने हरे रंग की रेखा को एक छोटे से बिंदु में बदल दिया, क्योंकि बमवर्षक को कुछ समय बाद गांव के ऊपर से गुजरना था। कुछ देर बाद वायुयान की आवाज सुनाई दी कि अपने मूल स्थान से उठती हरी बत्ती ऊपर की ओर उठने लगी। जब विमान ऊपर से गुजरा, तो प्रकाश वैसे ही वापस आने लगा जैसे वह ऊपर उठा था।

    फिर बॉम्बर वापस आया और कैथोड-रे-ट्यूब प्रक्रिया फिर से शुरू हुई। वह कार्रवाई तीन बार हुई और पिछली बार जब विमान लौटा तो यह भी पता चला कि विमान ट्रांसमीटर से प्रसारित रेडियो तरंगों के क्षेत्र से बाहर चला गया था।इस आश्चर्यजनक प्रदर्शन से ब्रिटिश वायु मंत्रालय के विशेषज्ञ बहुत प्रभावित हुए। अपनी रिपोर्ट में उन्होंने रॉबर्ट वाटसन वाट की रिपोर्ट की सराहना की और रडार पर और तेजी से काम करने की सिफारिश की।

    वायु सेना ने रॉबर्ट वाटसन वाट की योजना को स्वीकार कर लिया। इसके लिए वायु सेना ने रॉबर्ट एलेक्जेंडर वाटसन वाट को योजना को और विकसित करने के लिए एक लाख अस्सी हजार रुपये का अनुदान दिया। मई 1935 में रॉबर्ट वाटसन वाट ने अपने छह सहयोगियों के साथ 'ऑरफोर्ड नेस सफ़ोक' में गुप्त रूप से काम शुरू किया। एक हवाई अड्डे पर उस जगह पर कुछ झोपड़ियाँ बेकार पड़ी थीं। वाटसन ने उन्हें अपनी प्रयोगशाला बना लिया।

    जुलाई के मध्य तक उनके रडारतैयार था, जो चौबीस किलोमीटर की दूरी तय करेगा। विमान के अप करने के लिए स्थिति पता कर सकता है। जुलाई के अंतिम सप्ताह में, जब रॉबर्ट एक विमान के मार्ग का पता लगा रहे थे, उन्होंने रडार पर कुछ अजीब संकेत देखे जो लगातार बदल रहे थे। उन्होंने अनुमान लगाया कि एक नहीं बल्कि तीन विमान हैं, जो अपनी उड़ान की स्थिति बदलते रहते हैं। इस तरह पहली बार रडार एक ही स्थान पर कई विमानों की स्थिति जानने में सक्षम हुआ।

    सितंबर 1935 में इंग्लैंड के दक्षिण-पश्चिम तट से उत्तर-पूर्वी तट तक 20 रडार स्टेशनों के निर्माण की योजना बनाई गई थी। वह योजना अगस्त, 1937 ई. में पूरी हुई। उन सुरक्षा गार्डों (रडार) की उपयोगिता अगस्त, 1937 ई. के वायु सेना अभ्यास में सिद्ध हुई। इस प्रकार वायु सेना ने उनका उपयोग करने का निर्णय लिया। हालांकि राडार की उपयोगिता सिद्ध हो चुकी थी, फिर भी बहुत से महत्वपूर्ण कार्य किए जाने थे। राडार को कहाँ रखा जाना चाहिए, उन्हें कौन संचालित करेगा और उनके उपकरणों का निर्माण कौन और कैसे किया जाना चाहिए?

    ऐसे कई सवालों के जवाब देने के लिए रॉबर्ट वाटसन वाट ने अथक परिश्रम किया। उनके प्रयासों के परिणामस्वरूप, मार्च 1939 के अंत में ब्रिटेन के चारों ओर रडार केंद्र स्थापित किए गए, जिसने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटेन की रक्षा की। 1 जुलाई 1940 को, जब इंग्लैंड ने द्वितीय विश्व युद्ध में प्रवेश किया, 50 रडार-स्टेशन इंग्लैंड के चारों ओर सुरक्षा गार्ड के रूप में काम कर रहे थे। उन राडार स्टेशनों पर प्राप्त जानकारी का उपयोग करते हुए, रॉयल एयर फोर्स ने जर्मन वायु सेना के छक्कों को बचाया। अंत में हिटलर को इंग्लैण्ड पर आक्रमण न करने का निर्णय लेना पड़ा।

    वास्तव में, रॉबर्ट वाटसन वाट ने तत्कालीन रेडियो-उपकरण का उपयोग करते हुए एक ऐसे उपकरण को जन्म दिया जो वायुयानों की स्थिति और स्थिति को प्रदर्शित कर सकता था। रॉबर्ट वाटसन वाट से पहले कई देशों में कई वैज्ञानिकों ने इस तरह के प्रयास किए थे, लेकिन वे सफल नहीं हुए।ब्रिटेन ने रॉबर्ट एलेक्जेंडर वाटसन वाट के इस योगदान की सराहना करते हुए 1941 ई. में उन्हें 'सर' की उपाधि दी।

    इन्हें भी पढ़ें :-

    Conclusion :- 

    तो दोस्तों आज कि इस पोस्ट मे हमने आपको यह बताया कि रडार का आविष्कार किसने किया अगर आप हमारी जानकारी से संतुष्ट है तो कृपया इसे शेयर करें । 

    Post a Comment

    Please comment

    Previous Post Next Post