शून्य कि खोज किसने कि?

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारे इस नए पोस्ट मे आज हम आपको बताने वाले है कि शून्य कि खोज किसने कि जैसा कि आप सब जानते है कि शून्य गणित का ऐसा अंक है जो कि हमारे गिनती को पूर्ण करता है, इसके बिना हमारा गणित ही अधूरा है क्योंकि शून्य के बिना गणित ही नहीं बन सकता ।

आखिर इस शून्य (0) कि खोज किसने कि और इसका इतिहास क्या है आज हम आपको इस पोस्ट मे बताएंगे । अगर आप यह जानना चाहते है कि शून्य कि खोज किसने कि तो बनाए रहे.......। 

शून्य कि खोज किसने की 

शून्य की खोज किसने की? प्राचीन काल में बहुत से लोग जीवन जीना सीख रहे थे, इसलिए भारत में वैज्ञानिक जीवन हो रहा था। जब यहां सिंधु घाटी सभ्यता के पुरातत्व की खोज की गई थी। तो दुनिया ने सच में इस बात को मान लिया। आज भी यहां विज्ञान के क्षेत्र में भारत ऐसे कई विकसित देशों से काफी आगे है। लेकिन यह दुख की बात है कि हमें अपनी कई उपलब्धियों का श्रेय अब तक नहीं मिल पाया है।

हम जानते हैं कि भगवान महावीर द्वारा 'सूक्ष्म जीवों' की खोज के बारे में बताया जाए या फिर 'परमाणु' की खोज महर्षि कणाद ने की हो। लेकिन हमें कुछ ऐसी चीजों का श्रेय दिया गया है, कि एक 'जीरो की खोज' भी है। इस लेख में हम 'शून्य का आविष्कार किसने और कब' के बारे में विस्तार से बात करेंगे।

शून्य का योगदान हर क्षेत्र में है, लेकिन इसे गणित के क्षेत्र में सबसे बड़े आविष्कारों में गिना जाता है। एक बार सोचिए और देखिए कि अगर जीरो असल में आविष्कारक नहीं होता तो आज गणित कैसा होता? गणित होता तो होता लेकिन उतना परिपूर्ण नहीं होता जितना आज है। यही कारण है कि 0 की खोज सबसे महत्वपूर्ण आविष्कारों में शामिल है।

    जब भी शून्य के आविष्कार की बात आती है तो हमारे मन में ऐसे कई सवाल उठते हैं। शून्य का आविष्कार किसने किया?, शून्य का आविष्कार कब हुआ?, शून्य क्या है? जीरो इन हिंदी, शून्य के आविष्कार में आर्यभट्ट का क्या योगदान है?, शून्य के आविष्कार से पहले गणना कैसे की गई, भारत में शून्य की खोज कब और कैसे हुई?, जब शून्य (0) का पहली बार संख्यात्मक रूप में उपयोग किया गया था और यह कैसे हुआ?, शून्य कब एक अवधारणा बन गया? और शून्य के आविष्कार का क्या महत्व है? इस लेख में हम शून्य के आविष्कार से लेकर उसके इतिहास तक के बारे में विस्तार से बात करेंगे।

    शून्य या जीरो क्या है ? 

    शून्य (शून्य 0) एक गणितीय संख्या है जिसे हिंदी भाषा में संख्या कहा जाता है और इसे अंग्रेजी में 'शून्य' भी कहा जाता है। गणित में शून्य का बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। वैसे तो शून्य का कोई मान नहीं होता है, लेकिन अगर इसे किसी भी संख्या में रखा जाए तो इसका मान दस गुना बाधा देता है, उदाहरण के लिए, यदि 1 के सामने 1 रखा जाता है तो 10 और 10 के सामने 0 रखा जाता है, तो 100 और 100. अगला एक 0 1000 हो जाएगा।

    लेकिन अगर किसी संख्या के आगे 0 रखा जाए तो उसका मान वैसा ही रहता है जैसे 999 के सामने 0 रखा जाता है, तो वह 0999 होगा यानी संख्या का कोई मान घटेगा या बढ़ेगा नहीं, वही होगा। यदि शून्य को किसी वास्तविक संख्या से गुणा किया जाए तो वह वापस 0 पर आ जाएगा। जैसे- (x *0 =0 या x*0=0) और किसी भी वास्तविक संख्या में शून्य जोड़ने या घटाने पर वही संख्या प्राप्त होती है। जैसे (x + 0 = x; x - 0 = x) और यदि 0 शून्य को किसी वास्तविक संख्या से विभाजित किया जाए तो इसका उत्तर अनंत होगा।

    शून्य (जीरो ) का इतिहास – Zero History in Hindi

    शून्य का आविष्कारक कौन है, यह जानकारी आज तक पूरी तरह से छिपी हुई है, लेकिन भारतीय गणितज्ञ वर्षों से दावा करते रहे हैं कि शून्य का आविष्कार भारत में हुआ था लेकिन कहा जाता है कि शून्य (0) का आविष्कार भारत में हुआ था। पांचवीं शताब्दी ईस्वी के मध्य में, इस शून्य का आविष्कार आर्यभट्ट ने किया था और भारतीय अभी भी मानते हैं कि शून्य की खोज भारतीय गणितज्ञ आर्यभट्ट ने की थी। 

    उसके बाद ही यह दुनिया में लोकप्रिय हुआ, लेकिन अमेरिका के एक गणितज्ञ का कहना है कि भारत में शून्य की खोज नहीं हुई थी। अमेरिकी गणितज्ञ आमिर एकेल ने कंबोडिया में सबसे पुराने शून्य की खोज की है।

    और साथ में यह भी कहा जाता है कि इस शून्य (0) का उल्लेख सर्वप्रथम लोकविभाग नामक ग्रंथ में मिलता है, जिसकी रचना मूल रूप से प्राकृत में सर्वानंदी नामक दिगंबर जैन साधु ने की थी। इस पुस्तक में दशमलव संख्या प्रणाली का भी उल्लेख यहाँ किया गया है और इसका उल्लेख भारतीय गणितज्ञ और खगोलशास्त्री आर्यभट्ट ने 498 ई. . जिसका मतलब खाली होता है लेकिन फिर लैटिन, इटालियन, फ्रेंच आदि से इसे अब अंग्रेजी में 'जीरो' कहा जाता है। जीरो को हिंदी में जीरो भी कहा जाता है जो कि संस्कृत की भाषा है।

    लेकिन शून्य के आविष्कार के कुछ अलग तथ्य भी यहां दिए गए हैं, आइए मान लें कि शून्य का आविष्कार आर्यभट्ट जी ने 5वीं शताब्दी में किया था, फिर हजारों साल पहले कैसे रावण के 10 सिर बिना शून्य के गिने जाते थे, बिना शून्य के कैसे जानें ( ०) सोचा था कि कौरव १०० थे, कुछ अलग चीजें हैं, लेकिन यह अभी भी कहा जाता है कि शून्य की खोज आर्यभट्ट ने ५वीं शताब्दी में की थी।

    शून्य का खोज किसने किया था?

    शून्य के आविष्कार से पहले गणितज्ञों को संख्याओं की गणना करने और कई गणितीय समस्याओं को हल करने में बहुत कठिनाई होती थी। देखा जाए तो इस शून्य का आविष्कार गणित के क्षेत्र में क्रांति के समान है। यदि शून्य का अविष्कार न होता तो शायद गणित आज की तुलना में कई गुना अधिक कठिन होता।

    आज हम जिस तरह से शून्य (0) का उपयोग कर रहे हैं और शून्य की सटीक परिभाषा हमारे पास है, उसके पीछे कई गणितज्ञों और वैज्ञानिकों का योगदान शामिल है। लेकिन शून्य के आविष्कार का मुख्य श्रेय भारतीय विद्वान ब्रह्मगुप्त को जाता है। क्योंकि उन्होंने ही शुरुआत में इसे शून्य के सिद्धांतों के साथ पेश किया था।

    आर्यभट्ट का शून्य के अविष्कार में क्या योगदान हैं?

    ब्रह्मगुप्त से पहले भारत के महान गणितज्ञ और ज्योतिषी आर्यभट्ट ने शून्य का प्रयोग किया था, इतने सारे लोग आर्यभट्ट को शून्य का जनक (0) मानते थे। लेकिन सिद्धांत न देने के कारण उन्हें शून्य का मुख्य आविष्कारक नहीं माना जाता है। बहुत से लोग मानते हैं कि शून्य का आविष्कार भारत के महान गणितज्ञ और ज्योतिषी आर्यभट्ट ने किया था। यह बात काफी हद तक सही भी है क्योंकि शून्य की अवधारणा देने वाले पहले व्यक्ति आर्यभट्ट थे।

    शून्य के आविष्कार को लेकर शुरू से ही मतभेद रहा है। क्योंकि कैलकुलेशन बहुत पहले से हो रहा है लेकिन बिना जीरो के यह बहुत ही नामुमकिन सा लगता है। आर्यभट्ट का मानना ​​​​था कि एक संख्या होनी चाहिए जो संख्या के रूप में दस और शून्य (जिसका कोई मूल्य नहीं है) के लिए प्रतीक के रूप में दस का प्रतिनिधित्व कर सके।
     
    लेकिन पहले भी लोग बिना किसी सिद्धांत के अलग-अलग तरीकों से शून्य का इस्तेमाल करते थे और इसका कोई प्रतीक भी नहीं होता था। ब्रह्मगुप्त ने इसे प्रतीकों और सिद्धांतों के साथ पेश किया और इसका इस्तेमाल भारत के महान गणितज्ञ और ज्योतिषी आर्यभट्ट ने किया।

    शून्य का खोज कब और कहां हुआ था?

    जीरो (शून्य) के अविष्कार के बहुत पहले से कई प्रतीकों को स्थानधारक के रूप में इस शून्य (0) उपयोग किया जा रहा था. ऐसे में सही तरह से नही कहा जा सकता है की शून्य का अविष्कार कब हुआ, परन्तु 628 ईसवी में महान भारतीय गणितज्ञ ‘ब्रह्मगुप्त‘ ने शून्य के प्रतीकों और सिद्धांतो के साथ इस 0 का सटीक रुप से उपयोग किया।

    शून्य का सर्वप्रथम उपयोग कब किया गया? 

    भारत में शून्य का विकास 5वीं शताब्दी के दौरान हुआ था या भारत में शून्य की खोज 5वीं शताब्दी में ही हुई थी। वास्तव में भारतीय उपमहाद्वीप में गणित में शून्य का स्थान बहुत महत्वपूर्ण है। शून्य पहली बार तीसरी या चौथी शताब्दी की बख्शाली पांडुलिपि में दिखाई दिया। ऐसा कहा जाता है कि 1881 में एक किसान ने पेशावर में बख्शाली के पास एक गांव में इस दस्तावेज़ के पाठ की खुदाई की, जो अब पाकिस्तान में है।

    यह एक कठिन दस्तावेज़ है क्योंकि यह दस्तावेज़ का केवल एक टुकड़ा नहीं है, बल्कि इसमें कई टुकड़े हैं जो कई सदियों पहले लिखे गए थे। रेडियोकार्बन डेटिंग तकनीक की मदद से, जो उम्र निर्धारित करने के लिए कार्बनिक पदार्थों में कार्बन समस्थानिकों की सामग्री को मापने की एक विधि है, यह पता चलता है कि बख्शाली पांडुलिपि में कई ग्रंथ हैं। सबसे पुराना भाग 224-383 AD का, नया भाग 680-779 AD का और नवीनतम भाग 885-993 AD का है। और इस पांडुलिपि में चीड़ के पेड़ के 70 पत्ते और सैकड़ों शून्य बिंदु (0) के रूप में दिखाए गए हैं।

    शून्य सम संख्या क्यों है? 

    शून्य सम संख्या  है क्योंकि यह "सम संख्या" की मानक परिभाषा के अनुसार भी शून्य है। एक संख्या को "सम" कहा जाता है यदि वह 2 का पूर्ण गुणज है। उदाहरण के लिए 10 एक सम संख्या है क्योंकि 5 × 2=10 बराबर है। इसी प्रकार शून्य भी 2 का एक पूर्ण गुणज है जिसे 0 × 2 के रूप में लिखा जा सकता है, इसलिए शून्य एक सम संख्या है।

    इन्हें भी पढ़ें :-

    Conclusion :-

    मुझे आशा है कि आप जानते हैं कि मेरे लेख शून्य का आविष्कार किसने किया? जरूर पसंद आया होगा। मेरा हमेशा से यही प्रयास रहा है कि आप पाठकों शून्य कि खोज किसने कि? विषय के बारे में पूरी जानकारी प्रदान की जानी चाहिए ताकि उन्हें किसी अन्य साइट या इंटरनेट में उस लेख के संदर्भ में खोजने की आवश्यकता न हो।

    इससे उनका समय भी बचेगा और उन्हें सारी जानकारी भी एक ही जगह मिल जाएगी। अगर आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें कुछ सुधार होना चाहिए, तो आप इसके लिए नीचे टिप्पणी लिख सकते हैं।

    अगर आपको ज़ीरो के इतिहास के बारे में यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला, तो कृपया इस पोस्ट को सोशल नेटवर्क जैसे फेसबुक, ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया साइटों पर साझा करें।

    Post a Comment

    Please comment

    Previous Post Next Post